आंध्र प्रदेश की सत्ताधारी तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) के भीतर से कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावना पर तीखा विरोध सामने आया है. खबरों के मुताबिक बुधवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता और आंध्र प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केई कृष्णमूर्ति ने कहा, ‘टीडीपी का कांग्रेस के साथ गठबंधन करने का सवाल ही नहीं उठता है. अगर ऐसा हुआ तो मैं फांसी लगाने के लिए तैयार हूं.’ उन्होंने आगे कहा कि वे यह बात व्यक्तिगत तौर पर नहीं, बल्कि पार्टी की तरफ से कह रहे हैं. केई कृष्णमूर्ति ने यह भी कहा कि किसी भी दल से गठबंधन का फैसला 2019 के आम चुनाव से पहले किया जाएगा.

टीडीपी नेता केई कृष्णमूर्ति का यह बयान पार्टी अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू द्वारा कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी के शपथग्रहण समारोह में शामिल होने के बाद उठ रहे सवालों की पृष्ठभूमि में आया है. इस कार्यक्रम में मंच पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी सहित अन्य गैर-भाजपाई नेता मौजूद थे. इसके बाद वाईएसआर कांग्रेस और भाजपा ने आरोप लगाया था कि चंद्रबाबू नायडू अगले लोक सभा चुनाव में कांग्रेस से गठबंधन करने की योजना बना रहे हैं. बीते दिनों भाजपा नेता राम माधव ने भी कहा था कि चंद्रबाबू नायडू एक ऐसी पार्टी के साथ गठबंधन करने की सोच रहे हैं जो भ्रष्टाचार और परिवारवाद के लिए जानी जाती है.

हालांकि, मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने इन आरोपों को खारिज किया था. उन्होंने कहा था कि किसी के साथ मंच साझा करने का मतलब उसके साथ गठबंधन का विकल्प खोलना नहीं है. टीडीपी ने 2014 का आम चुनाव भाजपा के साथ मिलकर कांग्रेस के खिलाफ लड़ा था. उसे लोकसभा के साथ-साथ विधानसभा चुनाव में भी जीत मिली थी. लेकिन आंध्र प्रदेश के लिए विशेष राज्य के दर्जे की मांग को लेकर मार्च में टीडीपी ने केंद्र की भाजपानीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था.