अफोर्डेबल हाउसिंग योजना में सर्वश्रेष्ठ कार्य के लिए राजस्थान को मिला राष्ट्रीय अवार्ड

Tatpar 28 feb 2014

 केन्द्रीय आवास एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्राी डा. गिरिजा व्यास ने राजस्थान को अफोर्डेबल हाउंिसंग योजना में देश भर में सर्वश्रेष्ठ कार्य करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया है।  नर्इ दिल्ली के द ली मेरीडियन’ में बुधवार को अफोर्डेबल हाउसिंग पर आयोजित छठी राष्ट्रीय समिट में डा. गिरिजा व्यास से नगरीय विकास विभाग के प्रमुख सचिव श्री डी.बी. गुप्ता ने यह पुरस्कार सम्मान ग्रहण किया। समारोह का आयोजन एसोचम के सहयोग से किया गया था।  इस अवसर पर डा. व्यास ने अफोर्डेबल हासिंग योजना के अन्तर्गत राजस्थान में धरातल स्तर पर किए गये कार्यों की प्रशंसा की और बताया कि प्रदेश में इस योजना के अन्तर्गत पांच लाख मकान बनाने का लक्ष्य प्रशंसनीय प्रयास है।  समारोह में केन्द्रीय आवास एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्राालय के सचिव श्री अरूण कुमार मिश्रा और एसोचम के वरिष्ठ पदाधिकारी भी मौजूद थे।  प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री डी.बी. गुप्ता ने पुरस्कार ग्रहण करने के पश्चात बताया कि राजस्थान को देश भर में सर्वप्रथम अफोर्डेबल हाउंिसंग पालिसी बनाने और उसे सबसे पहले क्रियानिवत करने के लिए यह सम्मान प्रदान किया गया है।  उन्होंने बताया कि रार्इट टू शैल्टर की भावना के अनुरूप आवासीय मकानों की मांग एवं आपूर्ति में मौजूद भारी अन्तर को भरने के लिए राजस्थान में हर वर्ग के लोगों के लिए घर बनाने का कार्य हाथ में लिया गया है।  इस अवसर पर राजस्थान रियल एस्टेट डवलपमेंट कौंसिल के उपाध्यक्ष (राज रेडको) श्री अशोक पाटनी ने बताया कि अफोर्डेबल हाउसिंग योजना के अन्तर्गत प्रदेश में काफी अच्छा कार्य हुआ है। उन्होंने बताया कि गुरुवार को इस योजना के तहत जयपुर जिले के करीब 2500 निर्मित मकानों की चाबी लाभानिवतों को सौंपने का कार्यक्रम रखा गया है।