अब सरकार दिल्ली से नहीं, देश के कई हिस्सों से लोग चला रहे हैं: अरुणाचल प्रदेश में बोले मोदी

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अरुणाचल प्रदेश पहुंचे। उन्होंने यहां दोर्जी खांडू राज्‍य सभागार का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि अब सरकार दिल्ली से नहीं, देश के कई हिस्सों से लोग चला रहे हैं। पीएम यहां से त्रिपुरा भी जाएंगे। वहां वे दो चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे। बता दें कि 60 सदस्यीय त्रिपुरा विधानसभा के लिए 18 फरवरी को चुनाव होगा। बीजेपी 51 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, जबकि उसकी गठबंधन सहयोगी ‘इंडीजेनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा’ (आईपीएफटी) ने नौ सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं।

मोदी ने कहा, “पैसे कैसे बच सकते हैं, इसे हम भली-भांति जानते हैं।”

– “पहले सरकार बिखरी-बिखरी होती थी, कोई यहां बैठता था तो कोई वहां। वर्क एन्वायरमेंट का वर्क कल्चर पर प्रभाव पड़ता है। एक ही कैंपस में सारे यूनिट होने के कारण सामान्य लोगों को सुविधा हुई है।”
– “सभी मिल-जुलकर एक दिशा में चलते हैं तो सरकार अच्छे से चलती है। एक कैंपस में होने से निर्णय प्रक्रिया और डिलीवरिंग प्रोसेस तेज हो जाती है।”
– “आज मैं दोरजी खांडू सेक्रेटरिएट का लोकार्पण करते हुए गर्व महसूस कर रहा हूं।”
– “हमने सरकार में एक प्रयोग शुरू किया है। दिल्ली से सरकार चलते हुए 70 साल हो गए। लोग दिल्ली की तरफ देखते थे। अब सरकार दिल्ली से नहीं, देश के कई हिस्सों से लोग चला रहे हैं।”

कांग्रेस के पूर्व प्रधानमंत्रियों पर कसा तंज

– मोदी ने कहा, “अरुणाचल में मोरारजी देसाई आए थे। बाकी कोई पीएम नहीं आया। पीएम व्यस्त लोग होते हैं। पिछले 3 साल से हमारे मंत्री नॉर्थईस्ट के अलग-अलग क्षेत्रों में लगातार आ रहे हैं।”
– “देश में आरोग्य के क्षेत्र में बहुत कुछ करने की आवश्यकता महसूस करते हैं। हम हेल्थ सेक्टर को ताकत देने के लिए काम कर रहे हैं। हम चाहते हैं कि 3 संसदीय क्षेत्रों के बीच मेडिकल कॉलेज बनें।”
– “हम देश में वेलनेस सेंटर बनाने जा रहे हैं, इससे भी लोगों को फायदा होगा। इससे हम देश की करीब-करीब पंचायतों में पहुंच जाएंगे।”

त्रिपुरा में लेफ्ट की सरकार को सत्ता से बाहर करने की कोशिश

– बीजेपी ने त्रिपुरा की माणिक सरकार की अगुआई वाली वामपंथी सरकार को चुनाव में शिकस्त देने के लिए आखिरी दांव खेला है। इसी के तहत पीएम यहां पहुंच रहे हैं।

– यहां मोदी दक्षिणी त्रिपुरा जिले के शांतिर बाजार में पहली चुनावी रैली को संबोधित करेंंगे। इसके बाद वे राजधानी अगरतला में एक जनसभा को संबोधित करेंगे।

मोदी ने माणिक सरकार पर साधा था निशाना

मोदी ने अपनी पिछली चुनावी रैली में राज्य की माणिक सरकार पर तंज कसते हुए कहा था कि इस राज्य को गलत ‘माणिक’ मिल गया है, उसे ‘हीरा’ की जरूरत है। माणिक गलत तरीके से धारण किया जाये तो वह नुकसान पहुंचाता है। हीरा से उनका अभिप्राय हाईवे, आईवेज, रोड्स और एयरवेज था।

त्रिपुरा असेंबली की 60 सीटों पर 18 फरवरी को वोटिंग

– त्रिपुरा में 12वीं विधानसभा के लिए 18 फरवरी को चुनाव होने हैं। यहां असेंबली की 60 सीट हैं। नतीजे 3 मार्च को मेघालय और नागालैंड के साथ ही आएंगे।
– फिलहाल यहां सीपीएम की सरकार है और माणिक सरकार 20 साल से मुख्यमंत्री हैं। 2013 के इलेक्शन में बीजेपी को राज्य में एक भी सीट नहीं मिली थी।

त्रिपुरा में CPM को BJP दे रही टक्कर

– त्रिपुरा में पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी का वोट शेयर सिर्फ 1.57 फीसदी था जो 2014 के आम चुनाव में बढ़कर 5.7 फीसदी हो गया।

– इस बार यहां बीजेपी की स्थिति काफी मजबूत मानी जा रही है और यह 25 साल से राज्य में शासन कर रही मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) को कड़ी टक्कर दे रही है।