अमित शाह ने लगाई क्षिप्रा में डुबकी, संतों के साथ खाएंगे चांदी की थाली में खाना

इंदौर.अमित शाह बुधवार संत समागम स्नान के लिए उज्जैन पहुंचे। यहां उन्होंने संतों के साथ क्षिप्रा में डुबकी लगाई। बीजेपी चीफ का यह प्रोग्राम इसलिए चर्चा में है, क्योंकि इसका साधु-संतों ने यह कहते हुए विरोध किया था कि इससे साधुओं में मतभेद बढ़ेगा। इसके बाद शाह के प्रोग्राम का नाम बदल दिया गया। शाह कुछ देर बाद संतों के साथ खाना खाएंगे। खास बात यह है कि इसके लिए चांदी के बर्तन इस्तेमाल किए जाएंगे।
समसरता स्नान की बजाए संत समागम स्नान किया गया नाम…
– अमित शाह बुधवार सुबह इंदौर पहुंचे। एयरपोर्ट पर शिवराज सिंह चौहान ने उन्हें रिसीव किया।
– इसके बाद शाह उज्जैन पहुंचे। यहां उन्होंने सबसे पहले सोहन दास बाबा की समाधि पर पहुंचकर फूल चढ़ाए।
– वाल्मीकि धाम पर शाह ने सभी साधु-संतों को माला पहनाकर उनका आशीर्वाद लिया।
– मंच पर अवधेशानंद महाराज , नरेंद्र गिरी महाराज, सत्यमित्रानंद जी, हरिगिरि महाराज और उमेश गिरि सहित बड़ी संख्या में संत मौजूद थे।
– इसके बाद शाह क्षिप्रा पहुंचे और स्नान किया।
ये है शाह का प्रोग्राम
– बीजेपी स्टेट मीडिया सेल के इंचार्ज डॉ. हितेश वाजपेयी के अनुसार, शाह वाल्मीकि धाम में वाल्मीकि सनातन धर्म संत सम्मेलन में शामिल होंगे और संतों का सम्मान करेंगे।
– इसके बाद वे उनके साथ वाल्मीकि घाट पर संतों के साथ संत समागम स्नान करेंगे।
– दोपहर 12 बजे दीनदयाल विचार प्रकाशन के चरैवेति शिविर में आयोजित अखाड़ा परिषद व दूसरे साधु-संतों के सम्मान समारोह में भाग लेंगे। इन्हीं संतों के साथ शाह खाना भी खाएंगे।
– सांसद डॉ. चिंतामणि मालवीय ने बताया कि अमित शाह महाकाल दर्शन के बाद निनौरा जाएंगे।
संतों के विराेध के बाद समरसता स्नान से संत समागम हुआ नाम
– भाजपा ने 2 मई को घोषित कार्यक्रम में शाह के 11 मई को वाल्मीकि धाम से संतों के साथ जुलूस के रूप में रामघाट जाकर समरसता स्नान करने की घोषणा की थी।
– इसका साधु-संतों ने यह कहते हुए विरोध किया था कि इससे संतों के बीच भेदभाव पैदा होगा।
– इसके बाद भाजपा ने कार्यक्रम में बदलाव करते हुए समरसता स्नान की जगह इस आयोजन का नाम संत समागम कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *