अमित शाह बोले- प्रधानमंत्री मोदी ही चुनेंगे एनडीए का उम्मीदवार

मुंबई. राष्ट्रपति चुनाव में सहयोगी शिवसेना का समर्थन हासिल करने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह रविवार को उद्धव ठाकरे के घर पहुंचे। दोनों ने करीब सवा घंटे तक बंद कमरे में बातचीत की। सूत्रों के अनुसार उद्धव ने भाजपा को समर्थन का ठोस भरोसा नहीं दिया है। शाह ने उद्धव को बताया कि राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए उम्मीदवार पीएम मोदी चुनेंगे। इस पर उद्धव ने कहा, “तो हम भी नाम देखकर ही फैसला लेंगे कि भाजपा को समर्थन देना है या नहीं।’ बैठक के लिए अमित शाह और सीएम देवेंद्र फडणवीस उद्धव के घर मातोश्री पहुंचे थे। बैठक 10 बजे शुरू हुई।
राष्ट्रपति चुनाव में शिवसेना की भूमिका को लेकर भाजपा में इसलिए भी बेचैनी है, क्योंकि शिवसेना ने चुनाव में स्वतंत्र राह चुनने की धमकी दी थी। बैठक में शाह ने राष्ट्रपति पद के संभावित उम्मीदवारों की सूची भी नहीं दी। अक्सर भाजपा और मोदी सरकार की खिंचाई करने वाली शिवसेना ने पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत और फिर हरित क्रांति के जनक एमएस स्वामीनाथन का नाम इस पद के लिए उछाला था।
कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र नहीं : शाह
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आंतरिक लोकतंत्र के मुद्दे पर कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी जिस दिन कांग्रेस का अध्यक्ष पद छोड़ेंगी, उसके बाद पार्टी का नया अध्यक्ष कौन बनेगा, यह बात सबको मालूम है। उपाध्यक्ष राहुल गांधी ही नए अध्यक्ष बनेंगे, लेकिन भाजपा में ऐसा नहीं है। शाह ने कहा, “मुझे अध्यक्ष पद से हटने के बाद भाजपा का नया अध्यक्ष कौन होगा, यह अभी कोई नहीं बता सकता है। कांग्रेस और भाजपा में यही सबसे बड़ा फर्क है। कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र है ही नहीं।”
शाह ने रविवार को विलेपार्ले में मुंबई शहर के प्रबुद्ध नागरिकों के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि भाजपा का अध्यक्ष बनने के लिए किसी राजनीतिक घराने में जन्म लेने की जरूरत नहीं पड़ती। देश में आज भाजपा और कम्युनिस्ट पार्टी ही ऐसी हैं, जहां पर पार्टी के भीतर आंतरिक लोकतंत्र कायम है।
उम्मीदवार की घोषणा 23 से पहले : वेंकैया
एजेंसी. नई दिल्ली.केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए के उम्मीदवार की घोषणा 23 जून से पहले कर दी जाएगी। नायडू ने केंद्रीय मंत्री एवं लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख राम विलास पासवान से मुलाकात के बाद यह जानकारी दी। वहीं पासवान ने कहा है कि उनकी पार्टी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के चयन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले का सम्मान करेगी।
दानवे को बैठक से रखा दूर
बैठक से भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दानवे को दूर रखा गया। बीते दिनों दानवे ने किसानों को कथित तौर पर अपशब्द कहे थे। इससे उद्धव बेहद नाराज हैं। सूत्रों की मानें तो उद्धव ने ही दानवे को बैठक में आने से मना कर दिया। हालांकि पार्टी प्रवक्ता माधव भंडारी ने दावा किया कि दानवे बैठक में शामिल थे। शिवसेना के वरिष्ठ सांसद संजय राऊत को भी बैठक से बाहर रखा गया। हालांकि दोनों नेता मातोश्री में ही मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *