आर्मी डे सेलिब्रेशनः रक्षा मंत्री बोले- जो दर्द देगा, वह सहेगा भी

नई दिल्ली. डिफेंस मिनिस्टर ने देश के दुश्मनों को चेतावनी दी है। मनोहर पर्रिकर ने सोमवार को आर्मी डे सेलिब्रेशन के मौके पर कहा, ”जिसने आपको नुकसान पहुंचाया है, उसे अपने किए का पता तब तक नहीं चलता, जब तक आप उसे ये अहसास नहीं दिलाते।” पर्रिकर ने पठानकोट हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी।
पर्रिकर ने दुश्मनों को किस तरह दी चेतावनी…
– ”किसी ने आपको नुकसान पहुंचाया हो, तो उसे उसका जवाब उसी लैंग्वेज में देना चाहिए।”
– ”शहादत की हमेशा इज्जत की जाती है, लेकिन देश की जरूरत है कि दुश्मनों को खत्म किया जाए।”
– ”यह कब, कैसे होगा, यह आपकी च्वाॅइस है।”
– ”कोई देश को नुकसान पहुंचा रहा हो, फिर वह कोई हो, उसे उसके द्वारा किए गए नुकसान का अहसास कराना चाहिए।”
– ”अगर उसे यह अहसास नहीं कराया गया तो वो ऐसा बार-बार करता रहेगा।”
– ”उसे हमें नुकसान पहुंचाने में मजा आने लगेगा।”
शहीदों पर क्या कहा?
– ”मुझे अपने सात शहीद जवानों पर गर्व है, लेकिन इसका दर्द भी है कि वे शहीद हुए।”
– ”पठानकोट में एयरफोर्स और आर्मी ने देश का मान बढ़ाया। वे बहादुरी से लड़े।”
एयरबेस के दौरे के दौरान डिफेंस मिनिस्टर ने क्या कहा था?
– पर्रिकर ने 5 जनवरी को पठानकोट एयरबेस का दौरा किया था। उन्होंने0 कहा था, ”आतंकियों के पास से पाकिस्तान में बना मटेरियल मिला है। जांच जारी है।”
– ”आतंकी एके 47, पिस्टल, नाइट विजन इक्विपमेंट्स और 40 से 50 किलो बुलेट लेकर आए थे।”
– पाकिस्तान और आतंकियों को क्या रिस्पॉन्स दिया जाएगा, इसके जवाब में उन्होंने कहा था, ”क्या जवाब दिया जाएगा, यह मैं यहां नहीं बताऊंगा।”
खामियों के बारे में क्या कहा था?
– ”मेरी चिंता इस बात को लेकर है कि ये आतंकी अंदर कैसे पहुंचे? जांच होने दीजिए।”
– ”इंटेलिजेंस इनपुट से लेकर ऑपरेशन में गैप देखे गए। यह जांच में साफ होगा कि चूक कहां रह गई।”
– ”मैंने जब यहां देखा तो लगा कि कुछ जगहें ऐसी हैं, जहां से आतंकी घुस सकते हैं।”
शहीद जवानों के बारे में क्या कहा था?
– ”एक कमांडो को छोड़कर किसी की भी मौत डायरेक्ट ऑपरेशन में नहीं हुई। जगदीशचंद्र बदकिस्मती से हमले का शिकार हुए।
ऑपरेशन में मौत का शिकार हुए सभी जवानों को शहीद मानेंगे। एयरबेस में नुकसान नहीं हुआ है।”
– ”पिछले डेढ़ घंटे में उस जगह का दौरा किया, जहां हमला हुआ। मैं आर्म्ड फोर्सेस, गरुड़ कमांडो और एनएसजी को धन्यवाद देना
चाहता हूं, जिन्होंने सफल ऑपरेशन चलाया।”