आर्मी ने PAK बॉर्डर एक्शन टीम के 2 मेंबर्स को किया ढेर, हमले की कोशिश में थे

श्रीनगर.इंडियन आर्मी ने शुक्रवार को पाकिस्तान बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) के 2 मेंबर्स को मार गिराया। ये उड़ी सेक्टर में एलओसी के पास आर्मी की पेट्रोलिंग टीम पर अटैक की प्लानिंग कर रहे थे। जवानों ने हमले को नाकाम कर दिया। आर्मी ने इस इलाके में सर्च ऑपरेशन जारी रखा है। बता दें कि पाकिस्तानी आर्मी ने 1 मई को LoC पार कर की थी। पुंछ में भारतीय इलाके में 250 मीटर अंदर तक घुसी पाक बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) ने आर्मी-बीएसएफ की पेट्रोल पार्टी पर हमला किया था। इस हमले में शहीद हमारे दो जवानों के सिर काट दिए थे। BAT आतंकवादियों के साथ मिलकर घुसपैठ की कोशिशों को बढ़ावा देती है।
गुलहाटा पोस्ट के पास हुआ एनकाउंटर…
– डिफेंस मिलिट्री स्पोक्सपर्सन कर्नल राजेश कालिया ने न्यूज एजेंसी यूएनआई को बताया- “बारामूला के उड़ी सेक्टर में गुलहाटा पोस्ट के पास शुक्रवार सुबह भारी हथियार से लैस आतंकी देखे गए। ये पेट्रोलिंग पार्टी पर हमला करने की कोशिश में थे। इंडियन जवानों ने उन्हें रोकने की कोशिश की। तभी फायरिंग शुरू हो गई। जवानों ने इन्हें मार गिराया।”
– ” बाद में इनकी पहचान पाकिस्तान बॉर्डर एक्शन टीम के मेंबर्स के तौर पर हुई।”
– न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पुलिस ने बताया कि इन आतंकियों की बॉडी ‘नो मेंस लैंड’ में देखी गई। यह वह इलाका होता जो भारत-पाक की सीमा के बीच है। जहां किसी का कब्जा नहीं है।
पुंछ में घात लगाकर आर्मी की टुकड़ी पर किया था अटैक
– 1 मई कृष्णा घाटी में पाकिस्तान ने पहले रॉकेट और भारी हथियारों से हमला किया था। भारत की तरफ से भी जवाब दिया गया था। इस दौरान दो पोस्ट के बीच भारतीय जवानों की एक टुकड़ी एलओसी पर लगी तारों की फेंसिंग पार कर लैंडमाइंस की चैकिंग के लिए आगे गई थी। पाकिस्तान की BAT वहां पहले से घात लगाकर बैठी थी। उसकी फायरिंग में हमारे दो जवान शहीद हो गए। इसके बाद BAT ने शहीदों के शवों के साथ बर्बरता की। उनके सिर काट दिए गए।
– वहीं, आर्मी के एक सीनियर अफसर ने बताया- “यह सोचा समझा हमला था। पाकिस्तान आर्मी की बीएटी टीम एलओसी पार कर भारतीय सीमा में करीब 250 मीटर तक घुस आई थी। ये काफी देर से हमले को अंजाम देने का इंतजार कर रहे थे। सोमवार सुबह पाक ने रॉकेट और मोर्टार से हमला किया। भारतीय पोस्ट पर तैनात जवानों को उलझाए रखा। इसके बाद उनका टारगेट 7 से 8 मेंबर वाली पेट्रोलिंग पार्टी थी, जो पोस्ट से बाहर चैकिंग के लिए आई थी।”
BAT ने दो जवानों के सिर काट दिए थे
– पाक के हमले में 22 सिख इन्फैंट्री के नायब सूबेदार परमजीत सिंह और बीएसएफ की 200वीं बटालियन के हेड कॉन्स्टेबल प्रेम सागर शहीद हो गए। वहीं, बीएसएफ के कॉन्स्टेबल राजेंद्र सिंह जख्मी हो गए थे। बता दें कि शहीद प्रेम सागर यूपी के देवरिया के रहने वाले थे।
पाक ने पहले भी किया था हमारे सैनिकों का अपमान
– 22 नवंबर, 2016 को माछिल में लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर पाकिस्तान के संदिग्ध आतंकियों के हमले में आर्मी के तीन जवान शहीद हो गए। एक जवान का शव क्षत-विक्षत हालत में मिला था। माछिल में हमारे जवान फेंसिंग के आगे पेट्रोलिंग करते हैं।
– पिछले साल 28 अक्टूबर में भी एक जवान मनदीप सिंह के शव का भी पाकिस्तान की सेना ने अपमान किया था। पाकिस्तानी आर्मी के कवर फायर का फायदा उठाते हुए आतंकी LoC के रास्ते घुसे और एक जवान की जान ले ली। उसके बाद जवान के शव को क्षत-विक्षत कर दिया। ये घटना भी माछिल सेक्टर में ही हुई थी।
– जून 2008 में गोरखा राइफल्स के एक जवान को पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम ने केल सेक्टर में पकड़ लिया था। कुछ दिन बाद उसका सिर कलम कर लाश फेंक दी थी।
– 2013 में दो जवान लांसनायक हेमराज और सुधाकर सिंह के शवों को भी पाक सैनिकों ने क्षत-विक्षत कर दिया था।
– 1999 की कारगिल जंग के दौरान कैप्टन सौरभ कालिया को पाकिस्तान की सेना ने प्रताड़ित किया था और बाद में उनके शव के साथ भी बर्बरता की गई।
– 2016 में एलओसी के पास 228 और इंटरनेशनल बॉर्डर पर 221 सीजफायर वॉयलेशन हुए थे।
क्या है BAT ?
– BAT का पूरा नाम पाकिस्तान बॉर्डर एक्शन टीम है। इसके बारे में सबसे पहले पांच और छह अगस्त 2013 की दरमियानी रात को पता लगा था। तब इसने एलओसी पर पेट्रोलिंग कर रही भारतीय सेना की टुकड़ी को निशाना बनाया था।
– BAT हकीकत में पाकिस्तान की स्पेशल फोर्स से लिए गए सैनिकों का ग्रुप है। हैरानी की बात ये है कि BAT में सैनिकों जैसी ट्रेनिंग पाए आतंकी भी हैं। ये एलओसी में 1 से 3 किलोमीटर तक अंदर घुसकर हमला करने के लिए तैयार किया गया है।
– BAT को स्पेशल सर्विस ग्रुप यानी एसएसजी ने तैयार किया है। यह पूरी प्लानिंग के साथ अटैक करती है। ये टीम पहले खुफिया तौर पर ऑपरेशनों को अंजाम देती थी लेकिन बाद में मीडिया की वजह से खबरों में रहने लगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *