इस्लाम का अपमान करने पर सऊदी कोर्ट ने ब्लॉगर को दी हजार कोड़े की सजा

दुबई. सऊदी अरब की सुप्रीम कोर्ट ने इस्लाम के अपमान के आरोप में एक ब्लॉगर को एक हजार कोड़े मारे जाने की सजा को बरकरार रखा है। सऊदी अरब की सुप्रीम कोर्ट ने इस्लाम का अपमान करने के आरोप में ब्लॉगर रफी बदावी को दस साल जेल की सजा भी सुनाई है। सऊदी अरब के अखबार ओकेज की खबर के मुताबिक, रफी को 1000 कोड़े मारने की सजा अंतिम फैसला है। बता दें कि इस फैसले के खिलाफ ब्लॉगर की पत्नी सहित विश्व भर में कई देश ने अपील की थी लेकिन सऊदी की अदालत ने अपना फैसला नहीं बदला। रफी को 50 कोड़े मारे भी जा चुके हैं।
पत्नी ने कहा- और 950 कोड़े पड़े तो मर जाएंगे रफी
ब्लॉगर रफी की पत्नी इंसाफ हैदर ने कहा, ”सुप्रीम कोर्ट ने अपने अंतिम फैसले में भी इसमें कोई बदलाव नहीं किया है। मुझे डर है कि यदि उन्हें 950 सजा दी गई तो उनकी मौत हो सकती है।” रफी की पत्नी के अलावा विश्व भर से कई संस्थाओं ने भी रफी को कोड़े मारे जाने के खिलाफ आवाज उठाई है। कोर्ट का अंतिम फैसला आने के बाद पत्नी को शाह सलमान से ही उम्मीद है।
कोड़े मारे जाने का विश्वभर में विरोध
रफी को एक हजार कोड़े मारे जाने के फैसले का विश्व भर में विरोध हो रहा है। इस फैसले का विश्वभर में विरोध किया गया था लेकिन फिर भी रफी को सजा भुगतनी पड़ेगी। यूनाइटेड नेशंस, अमेरिका, यूरोपीयन यूनियन, कनाडा और कई देशों ने विरोध किया था। कई देशों में इसे लेकर विरोध-प्रदर्शन किया गया था लेकिन फिर भी कोर्ट ने अपना फैसला नहीं बदला। सऊदी अरब ने सज़ा के खिलाफ हुए विरोध को अपने आंतरिक मामलो में दख़ल बताया था।
क्या है मामला?
2012 में रफी को इलेक्ट्रॉनिक चैन्ल्स के जरिए इस्लाम के अपमान का आरोप है जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। उन्होंने चार साल तक लिबरल सऊदी नेटवर्क चलाया था जहां धार्मिक और राजनीतिक मुद्दों पर ऑनलाइन बहस की आजादी होती थी। इसी साल जनवरी में रफी को पहले पचास कोड़े मारने की शुरुआत हुई थी। मोबाइल फोन के एक वीडियो में दिखाया गया था कि सुरक्षा बलों के जवान रफी को कोड़े मार रहे हैं। इस वीडियो के सामने आने के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसका विरोध हुआ था। प्रत्येक हफ्ते शुक्रवार को कोड़े मारने का दिन तय किया गया था। हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि रफी को फिर पचास कोड़े मारे गए या नहीं, क्योंकि मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक वह सजा के लिए फिट नहीं थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *