उत्तराखंड फ्लोर टेस्ट में जीते रावत: प्रेसिडेंट रूल हटा, राहुल का मोदी पर तंज

नई दिल्ली/देहरादून. उत्तराखंड असेंबली में मंगलवार को हुए फ्लोर टेस्ट के नतीजों का सुप्रीम कोर्ट में एलान हो गया। हरीश रावत सरकार ने विश्वास मत हासिल कर लिया है। कांग्रेस को 33 और बीजेपी को 28 वोट मिले हैं। केंद्र ने राज्य से प्रेसिडेंट रूल हटाने का फैसला ले लिया है। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि मुझे उम्मीद है कि मोदी जी इससे सबक लेंगे।
केंद्र ने कोर्ट में क्या जवाब दिया…
– सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद केंद्रीय कैबिनेट की मीटिंग में राज्य से प्रेसिडेंट रूल हटाने का फैसला लिया गया।
– इसके पहले कोर्ट में केंद्र की तरफ से पेश अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा- ‘ केंद्र शाम तक राज्य से प्रेसिडेंट रूल हटा लेगा।’
– सुप्रीम कोर्ट ने नतीजों का एलान करते हुए कहा- ‘हरीश रावत सीएम के तौर पर कामकाज शुरू कर सकते हैं।’
– ‘कांग्रेस को 61 वोट में से 33 वोट मिले हैं। जबकि बीजेपी को 28 वोट मिले।’
-‘ मामले की सुनवाई आगे भी जारी रहेगी।’
– बता दें कि मंगलवार को उत्तराखंड में सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में फ्लोर टेस्ट हुआ था।
राहुल ने ट्वीट कर मोदी पर कसा तंज
– सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राहुल गांधी ने दो ट्वीट किए।
– पहले ट्वीट में उन्होंने कहा- ‘उन्होंने अपना सबकुछ लगा दिया जितना बुरा हो सकता था किया, लेकिन हमने अपना बेस्ट किया। उत्तराखंड में डेमोक्रेसी की जीत हुई है।’
– दूसरे ट्वीट में कहा- ‘ मुझे उम्मीद है कि मोदी जी इससे सबक लेंगे। हमारे फाउंडिंग फादर्स ने इंस्टिट्यूशंस को ऐसा बनाया ताकि लोकतंत्र की हत्या न हो।’
हरीश रावत ने क्या कहा था?
– मंगलवार को हुए फ्लोर टेस्ट के बाद हरीश रावत ने कहा था- उम्मीद है कि अनिश्चितता के बादल छंट जाएंगे और स्थिति कल तक साफ हो जाएगी।
– ”असेंबली के अंदर क्या हुआ, इस बारे में टिप्पणी नहीं करूंगा। लेकिन मैं सुप्रीम कोर्ट, लोकतांत्रिक ताकतों और उत्तराखंड के लोगों का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। मैं सभी देवी-देवताओं को धन्यवाद देना चाहता हूं।”
बीजेपी ने लगाया था धनबल के इस्तेमाल का आरोप
– बीजेपी विधायक गणेश जोशी ने कहा कि हमने धनबल का प्रयोग नहीं किया। अगर हम ऐसा करते तो शायद हम भी बहुमत हासिल कर सकते थे।
– उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने धनबल का प्रयोग किया। यही वजह है कि आंकड़ों के खेल में हम सदन के अंदर हार गए। बीजेपी सैद्धांतिक रूप से विजयी हुई, लेकिन आंकड़ों के खेल में हार गई।
अब तक क्या हुआ
– उत्तराखंड हाईकोर्ट ने फैसला दिया था कि कांग्रेस के 9 बागी विधायक वोट नहीं दे सकेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने इस पर मुहर लगाई थी।
– बीएसपी ने कांग्रेस को सपोर्ट देने का एलान किया। कांग्रेस की विधायक रेखा आर्य बीजेपी के खेमे में चली गई थीं।
– मंगलवार सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे फ्लोर टेस्ट की प्रोसिडिंग शुरू हुई थी। 2 घंटे के लिए प्रेसिडेंट रूल हटाया गया।
– वोटिंग के दौरान ऑब्जर्वर मौजूद रहे। कांग्रेस के 9 बागी विधायक वोट नहीं दे पाए।
– फ्लोर टेस्ट की वीडियोग्राफी की गई।
– हालांकि, कांग्रेस ने जीत का दावा किया था।
कोर्ट के फैसले के बाद ये थी स्थिति?
– असेंबली में मौजूद रहेंगे-61 विधायक (स्पीकर और 9 डिस्क्वालिफाइड विधायकों को छोड़कर)
– मेजॉरिटी के लिए जरूरी- 32
– बीजेपी-28
– कांग्रेस-27
निर्दलीय- 3
– बीएसपी- 2
– उत्तराखंड क्रांति दल- 1
बीएसपी के कांग्रेस के सपोर्ट को एलान के बाद क्या था जीत का गणित
कांग्रेस के लिए :
कांग्रेस (एक एमएलए रेखा आर्य बागी) 26
इंडिपेंडेंट 3
बीएसपी 2
मनोनीत 1
उत्तराखंड क्रांति दल 1
बीजेपी का बागी 1
कुल संख्या = 34
कांग्रेस को इसमें से 33 वोट मिले
बीजेपी के लिए
बीजेपी 27
कांग्रेस की बागी विधायक 1
कुल संख्या = 28

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *