उत्तराखंड में फ्लोर टेस्ट खत्म: कांग्रेस जीती या BJP? सुप्रीम कोर्ट में होगा खुलासा

नई दिल्ली/देहरादून. उत्तराखंड में मंगलवार को फ्लोर टेस्ट हो गया। इससे पहले, कांग्रेस की एक विधायक रेखा आर्य बागी हाेकर बीजेपी खेमे में शामिल हो गईं। इसी बीच, बीएसपी चीफ मायावती ने कांग्रेस काे सपोर्ट का एलान कर दिया। बीएसपी के दो विधायक हैं। फ्लोर टेस्ट के नतीजे अब सुप्रीम कोर्ट को सीलबंद लिफाफे में सौंपे जाएंगे। बुधवार को सुनवाई के दौरान यह खुलासा होगा कि फ्लोर टेस्ट में किसे जीत मिली है। कांग्रेस ने हरीश रावत को बहुमत मिलने का दावा किया है।
पढ़ें लाइव अपडेट्स और जानिए अब क्या है उत्तराखंड में जीत का गणित…
12:05 PM:बीजेपी के लिए 28 और हरीश रावत के फेवर में 34 वोट डाले जाने की खबर।
12:00 PM:असेंबली में फ्लोर टेस्ट पूरा। हरीश रावत को बहुमत मिलने का दावा है। कल सुप्रीम कोर्ट में खुलेगी पूरी रिपोर्ट।
11:48 AM:असेंबली की कार्यवाही की वीडियोग्राफी की जा रही है।
11:42 AM:उत्तराखंड विधानसभा में पूरी कार्यवाही सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो रही है।
11:25 AM:उत्तराखंड विधानसभा में फ्लोर टेस्ट की प्रोसेस शुरू।
11:20 AM:फ्लोर टेस्ट के मकसद से उत्तराखंड से प्रेसिडेंट रूल हटा।
11:15 AM:बीजेपी को अब भी जीत का भरोसा।
10:55 AM:बीएसपी चीफ मायावती ने कहा- हमारी बीजेपी के साथ कोई डील नहीं हुई है। हमारी पार्टी पार्टी कांग्रेस को सपोर्ट करेगी।
10:35 AM:कांग्रेस विधायक रेखा आर्य के बागी होने की खबर। अब कांग्रेस के पास 26 विधायक ही बचे। वे बीजेपी के स्टेट प्रेसिडेंट अजय भट्ट के साथ नजर आईं। उन्होंने मीडिया से कहा कि फ्लोर टेस्ट के बाद ही बात करेंगी।
10:30 AM:हरीश रावत ने कहा कि आज उत्तराखंड और कांग्रेस की जीत होगी।
10:25 AM:उत्तराखंड असेंबली के बाहर विधायकों की गिनती हुई शुरू।
10:21 AM:हरीश रावत उत्तराखंड असेंबली पहुंचे।
10:16 AM:बीजेपी विधायकों ने फ्लोर टेस्ट से पहले मीटिंग शुरू की।
– इससे पहले सोमवार को सीएम हरीश रावत को राहत मिली। उत्तराखंड हाईकोर्ट ने फैसला दिया कि कांग्रेस के 9 बागी विधायक वोट नहीं दे सकेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने इस पर मुहर लगा दी।
– सभी की नजरें बीएसपी के दो विधायकों पर थीं। इनके वोट बेहद अहम हैं।
– दूसरी तरफ, देहरादून में हालात न बिगड़ें, इसलिए सिक्युरिटी सख्त कर दी गई है।
– एक विधायक क्रांति दल से और तीन इंडिपेंडेंट हैं। सूत्रों के मुताबिक, ये भी कांग्रेस के साथ जा सकते हैं। हालांकि, किसी ने ऑफिशियली अभी कुछ नहीं कहा है।
कोर्ट के फैसले के बाद स्थिति?
– असेंबली में मौजूद रहेंगे-61 विधायक (स्पीकर को छोड़कर)
– मेजॉरिटी के लिए जरूरी- 32
– बीजेपी-28
– कांग्रेस-21
निर्दलीय- 3
– बीएसपी- 2
– उत्तराखंड क्रांति दल- 1
बीएसपी के कांग्रेस के सपोर्ट को एलान के बाद क्या है जीत का गणित
कांग्रेस के लिए :
कांग्रेस (एक एमएलए रेखा आर्य बागी) 26
इंडिपेंडेंट 3
बीएसपी 2
मनोनीत 1
उत्तराखंड क्रांति दल 1
बीजेपी का बागी 1
कुल संख्या = 34
बीजेपी के लिए
बीजेपी 27
कांग्रेस की बागी विधायक 1
कुल संख्या = 28
बीजेपी तभी बहुमत तक पहुंच पाएगी जब 3 इंडिपेंडेंट और यूकेडी का एक विधायक उसके फेवर में सपोर्ट करे। ऐसी स्थिति में ही वह 32 के आंकड़े तक पहुंच सकेगी।
असेंबली में क्या होगा?
– आज 2 घंटे के लिए प्रेसिडेंट रूल रहेगा।
– वोटिंग के दौरान पर्यवेक्षक मौजूद रहेंगे।
– 9 विधायक वोट नहीं दे पाएंगे।
देहरादून में सिक्युरिटी सख्त
उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में सिक्युरिटी सख्त कर दी गई है। पुलिस को डर है कि फ्लोर टेस्ट के बाद यहां बीजेपी और कांग्रेस के सर्पोटर भिड़ सकते हैं।
बड़े नेताओं का डेरा देहरादून में
– कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद और अंबिका सोनी देहरादून में डेरा डाल चुके हैं। बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी कैलाश विजयवर्गीय, स्पोक्सपर्सन अनिल बलूनी, नेशनल वाइस प्रेसिडेंट श्याम जाजू और तरुण विजय भी यहीं हैं।
फ्लोर टेस्ट के बाद क्या होगा?
– फ्लोर टेस्ट के बाद फिर से प्रेसिडेंट रूल लगा दिया जाएगा। इस फ्लोर टेस्ट के लिए कांग्रेस के नौ बागी विधायकों के वोट काफी अहम थे।
– विधानसभा अध्यक्ष ने इन सभी की सदस्यता बर्खास्त कर दी थी। इस फैसले को उन्होंने हाईकोर्ट में चुनौती दी। हाईकोर्ट ने स्पीकर के फैसले को सही ठहरा दिया।
– इसके बाद बागी विधायकों ने फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। सुप्रीम कोर्ट ने भी हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा। 12 जुलाई को अगली सुनवाई होगी।
बीजेपी को क्या उम्मीद
– बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, “कोर्ट के फैसले से भाजपा पर कोई असर नहीं पड़ेगा। हरीश रावत पहले भी अल्पमत में थे और आज भी अल्पमत में हैं। वे विधानसभा में बहुमत साबित करने में विफल रहेंगे। भाजपा अपने सिद्धांतों से कभी समझौता करने वाली पार्टी नहीं है।”
विधानसभा की पहले की स्थिति
कुल विधायक- 71 (1 मनोनीत, 9 अयोग्य)
बीजेपी28
कांग्रेस- 27
बीएसपी- 2
निर्दलीय- 3