एमपी: राघवजी पर ट्वीट को लेकर दिग्विजय के खिलाफ केस

भोपाल, [नई दुनिया]। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर एक अधिवक्ता ने धार्मिक भावना भड़काने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया है। अधिवक्ता ने दिग्विजय द्वारा यौन शोषण में फंसे भाजपा नेता व पूर्व मंत्री राघव जी पर किए गए ट्वीट को आधार बनाया है। राघवजी के जेल जाने के बाद दिग्विजय ने सोशल नेटवर्किंग साइट पर चुटकी लेते हुए ट्वीट किया था, जिसे अधिवक्ता ने धार्मिक भावनाएं भड़काने वाला माना है।

हालांकि दिग्विजय सिंह ने सोशल नेटवर्किंग पर लाइव चैट में अपने किए गए ट्वीट के बाबत सफाई भी दी है। उन्होंने इस दौरान पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा था कि वह राघवगढ़ के रहने वाले हैं। राघवजी उनके इष्टदेव हैं, उनके गांव में जय राघवजी की कहते हैं। लेकिन कुछ विकृत मानसिकता के लोगों ने राघवजी का नाम मध्य प्रदेश के वित्त मंत्री के साथ जोड़ दिया है। जबकि उनका ट्वीट ईष्टदेव राघजवी के लिए था, न कि राघवजी वित्त मंत्री के लिए था।

अधिवक्ता संगीत वर्मा ने शुक्रवार को शाहपुरा थाने में लिखित शिकायत की है। उन्होंने थाना प्रभारी प्रज्ञा आर्य को एक पेज का शिकायत पत्र दिया है, जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री पर धार्मिक भावनाएं भड़काने तथा आइटी एक्ट के उल्लंघन का आरोप लगाया है। पुलिस ने शिकायत तो ले ली है, लेकिन फिलहाल कोई कार्रवाई नहीं की गई है। शनिवार को दिनभर इस मामले को लेकर गहमागहमी बनी रही। हबीबगंज सीएसपी जयंत राठौर का कहना है कि पुलिस शिकायत की जांच कर रही है। जिला लोक अभियोजक की राय मांगी गई है।