ऐसे बदला देश का सियासी नक्शा: 3 साल में 7 से बढ़कर 17 राज्यों में BJP सरकार

नई दिल्ली.आज मोदी सरकार के 3 साल पूरे हो चुके हैं। इस मौके पर दैनिक भास्कर आपको स्पेशल कवरेज के जरिए मिशन मोदी के बारे में बता रहा है। 2014 में जब मोदी प्रधानमंत्री बने तब बीजेपी 7 राज्यों में थी। अब 3 साल बाद 17 राज्यों में बीजेपी की सरकार है। मोदी के लिए 2018 तक गुजरात सहित 10 राज्यों को जीतना चुनौती है। आइए जानते हैं 2014 से लेकर अब तक देश का राजनीतिक नक्शा कितना बदल चुका है। अब भविष्य में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी की क्या रणनीति है।
गोवा, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में उठापटक कर बनाई अपनी सरकार
यहां पाई सफलता
– 2014 में मोदी के सत्ता में आने के बाद बीजेपी ने हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड, 2016 में असम और 2017 में उप्र, उत्तराखंड, गोवा मणिपुर में सरकार बनाई।
यहां गठबंधन
– सिक्किम, नगालैंड, आंध्र, जम्मू-कश्मीर, महाराष्ट्र, झारखंड, असम, मणिपुर, गोवा में गठबंधन से सरकार बनाई। इनमें से 5 राज्यों में भाजपा के सीएम हैं।
यहां मजबूत हुए
– भाजपा ने केरल में 1 विधानसभा सीट और पश्चिम बंगाल में 3 सीटें जीतकर खाता खोला। अरुणाचल प्रदेश में दलबदल से सरकार बनाई।
यहां फेल हुए
– 2015 में भाजपा की सबसे बड़ी हार बिहार और दिल्ली में हुई। दिल्ली में 31 से 3 सीटों पर आ गई। 2017 में पंजाब में अकाली-भाजपा गठबंधन हारा।
कांग्रेस से टक्कर
– मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, गुजरात और हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस से सीधी टक्कर है। इनमें से हिमाचल को छोड़कर 4 राज्यों में भाजपा की सरकार है।
यहां मौजूदगी नहीं
– तमिलनाडु, त्रिपुरा, पुडुचेरी, मेघालय, मिजाेरम में भाजपा की एक भी सीट नहीं है, सिर्फ वोट प्रतिशत बढ़ा है। पार्टी संघ के सहारे आधार मजबूत कर रही है।
2019 : लोकसभा चुनाव
 ‘मिशन 2019′ के तहत भाजपा ने लोकसभा की 400 सीटों को जीतने का लक्ष्य रखा है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने तैयारी शुरू कर दी है। वे उन राज्यों का दौरा कर रहे हैं, जहां भाजपा की मौजूदगी न के बराबर है। कांग्रेस ने भी संगठन में भारी फेरबदल की तैयारी शुरू कर दी है।
2019 : जनवरी-मई विधानसभा चुनाव: आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा, अरुणाचल, सिक्किम, पुडुचेरी में चुनाव होंगे। अभी आंध्र, अरुणाचल, सिक्किम में एनडीए की सरकारें हैं। अरुणाचल में पीपीए के 33 विधायक भाजपा में शामिल हो गए थे।
2019 : जून-दिसंबर, 3 राज्यों में चुनाव
महाराष्ट्र :भाजपा ने 2014 में पहली बार शिवसेना से गठबंधन किए बिना चुनाव लड़ा था और सबसे बड़ी पार्टी बनी थी। बीएमसी और अन्य स्थानीय निकाय चुनावों में मिली जीत से भाजपा के हौसले बुलंद हैं।
हरियाणा : वर्ष 2014 में भाजपा ने पहली बार यहां अपने दम पर सरकार बनाई थी। जाट आंदोलन से भाजपा की स्थिति कमजोर। अब वोटों के ध्रुवीकरण का ही सहारा।
झारखंड :भाजपा ने यहां गठबंधन सरकार बनाई है। पार्टी के बड़े नेताअों में गुटबाजी से हो सकता है नुकसान।