ओबामा को गार्ड ऑफ ऑनर देने वाली पूजा को नहीं मिला परमानेंट कमीशन, कोर्ट पहुंचीं

नई दिल्ली.विंग कमांडर पूजा ठाकुर ने एयरफोर्स में परमानेंट कमीशन नहीं मिलने पर ऑर्म्ड फोर्स ट्रिब्यूनल का दरवाजा खटखटाया है। पूजा वही विंग कमांडर हैं, जिन्होंने अमेरिकी प्रेसिडेंट बराक ओबामा को गार्ड ऑफ ऑनर दिया था। पूजा ने कोर्ट में दाखिल पिटीशन में एयरफोर्स के इस रवैये को भेदभावपूर्ण, मनमाना और बेतुका बताया है। बता दें कि आर्मी और एयरफोर्स के बाद नेवी में हाल ही में लेडी ऑफिसर्स को परमानेंट कमीशन की इजाजत मिली है।
2000 में ज्वाइन की एयरफोर्स…
– पिछले साल जनवरी में इंडियन एयरफोर्स की विंग कमांडर पूजा ठाकुर की अगुआई में राष्ट्रपति भवन में बराक ओबामा ने गार्ड ऑफ ऑनर का मुआयना किया गया था।
– ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी विदेशी मेहमान की मौजूदगी में गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व महिला अफसर ने किया।
– बता दें कि पूजा एयरफोर्स में साढ़े 16 साल से सेवाएं दे रही हैं।
– उन्होंने साल 2000 में एयरफोर्स की एडमिनिस्ट्रेटिव ब्रांच को ज्वाइन किया था।
– वह एयरफोर्स के दिल्ली हेडक्वार्टर में तैनात हैं। राजस्थान की रहने वाली पूजा पैरा जम्पर हैं।
अब तक 340 वुमन ऑफिसर्स को ही मिला परमानेंट कमीशन
– आर्मी और एयरफोर्स की सिलेक्टेड ब्रांच में अब तक लगभग 340 वुमन ऑफिसर्स को ही परमानेंट कमीशन मिली है।
– बता दें कि आर्मी और एयरफोर्स में वुमन ऑफिसर्स को परमानेंट कमीशन 2010 से देना शुरू किया गया था।
– हालांकि, वुमन ऑफिसर्स को तीनों सर्विसेस में ज्वाइनिंग की मंजूरी 1990 के शुरुआती महीनों में ही मिल गई थी।
– एसएससी ऑफिसर्स के तौर इनका मैक्सिमम टेन्योर 14 साल तक का होता है।
– बहरहाल, आर्मी में इनकी संख्या 1436, एयरफोर्स में 1321 और नेवी में सिर्फ 532 है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *