कप्तान धोनी की मुश्किलें बढ़ीं, हितों के टकराव से जुड़े मामले में जांच शुरू

कोलकाता. वनडे और टी-20 में टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी एक नए विवाद में घिरते दिखाई दे रहे हैं। हितों के टकराव को लेकर बीसीसीआई ने धोनी के खिलाफ जांच शुरू कर दी है। धोनी बीसीसीआई के कॉन्ट्रैक्ट पर हैं। वहीं, उनका नाम प्लेयर मैनेजमेंट कंपनी रीति स्पोर्ट्स से भी जुड़ा रहा है। रीति स्पोर्ट्‍स मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी धोनी के अलावा सुरेश रैना और रवींद्र जडेजा के व्यवसायिक हितों का ध्यान भी रखती है। इसी वजह से धोनी पर हितों के टकराव का आरोप लगता रहा है।

डालमिया ने कहा-रिपोर्ट आने पर करूंगा कमेंट
बीसीसीआई अध्यक्ष जगमोहन डालमिया ने कहा, “धोनी से जुड़े कथित हितों के टकराव वाला मामला अनुशासन समिति के पास है। इस बारे में हम कुछ भी तभी कह सकते हैं, जब जांच के बाद समिति की रिपोर्ट आ जाए।” खबरों की मानें तो धोनी के जांच रिपोर्ट कभी भी सामने आ सकती है। गौरतलब है कि अनुशासन समिति में डालमिया के अलावा ज्योतिरादित्य सिंधिया और केपी कजारिया शामिल हैं।

रीति ने धोनी की हिस्सेदारी से किया था इनकार
यह मामला तब सुर्खियों में आया जब धोनी के करीबी दोस्त अरुण पांडे की कंपनी रीति स्पोर्ट्‍स में धोनी की 15 प्रतिशत हिस्सेदारी होने की बात सामने आई। बता दें कि यही कंपनी धोनी की आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स की मार्केटिंग का भी काम करती है। विवाद बढ़ने पर अरुण पांडे ने 2013 में बताया था कि इस कंपनी में धोनी की कोई हिस्सेदारी नहीं है। पांडे के मुताबिक धोनी के पास पहले हिस्सेदारी थी, लेकिन बाद में उन्होंने हटा लिया था।