कमलनाथ के बयान पर एमपी में सियासी तूफान, BJP ने बताया अमर्यादित

मध्य प्रदेश में भीषण गर्मी और तूफान की संभावनाओं के बीच प्रदेश की सियासत में भी उबाल आ गया है. दरअसल, कांग्रेस नेता और प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ के उस बयान पर बीजेपी और कांग्रेस में नोक-झोंक शुरु हो गई है जिसमें उन्होंने कहा था कि शिवराज मेरे मित्र हैं लेकिन कुछ मित्र नालायक होते हैं.

कमलनाथ के बयान पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी जवाब दिया था. उन्होंने ट्विटर पर लिखा था कि हाथों की रेखाएं हमारी भी बहुत ख़ास है, तभी तो आप जैसा दोस्त हमारे पास है. जो सबसे हमेशा कहते फिरते हैं, बस “कमल” ही लायक है. हम सब भी आपकी इज़्ज़त करते हैं, और ज़ोर-शोर से दोहराते हैं कि कमल का फूल ही सबसे लायक है, भारतीय जनता ही हमारी नायक है.

बीजेपी सांसद आलोक संजर ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में बड़े नेताओं को अमर्यादित भाषा से बचना चाहिए और अगर गलती हो जाती है तो माफी मांगने में कोई हर्ज नहीं है. सीएम शिवराज सिंह चौहान सभी के मित्र हैं औऱ गरीब से गरीब व्यक्ति का ख्याल रखते हैं.

वहीं मामले में कांग्रेस नेता भूपेंद्र गुप्ता का कहना है कि ये दो दोस्तों के आपस का मामला है, एक ने कुछ कहा दूसरे ने जवाब दे दिया. इन दोनों के बीच बीजेपी नेता बोलने वाले कौन होते हैं. अगर बीजेपी नेताओं को भाषा की मर्यादा का इतना ख्याल है तो पहले अपने गिरेबान में झांके. जो नेता 18 साल की लडकियों के कैरेक्टर पर बात करते हैं या कुत्ते बिच्छुओं से सीखने की बात करते हैं उनकी पार्टी को भाषा की मर्यादा पर बात करने का अधिकार नहीं है.

बता दें कि सोमवार को कमलनाथ ने प्रेस से मिलिए कार्यक्रम में कहा था कि शिवराज मेरे मित्र हैं लेकिन कुछ मित्र नालायक होते हैं. उसके बाद कमलनाथ के इस बयान पर प्रतिक्रियाओं का दौर शुरू हो गया था.