कर्नाटकः किसानों का 34 हजार करोड़ का कर्ज माफ, पेट्रोल-डीजल के बढ़ेंगे दाम

बेंगलुरु: किसानों को बड़ी राहत देते कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने आज कांग्रेस – जद (एस) गठबंधन सरकार के पहले बजट में 34,000 करोड़ रुपए की कृषि ऋण माफी योजना की घोषणा की। विधानसभा में बजट प्रस्ताव पेश करते हुए कुमारस्वामी ने कहा कि उन्होंने ऋण की राशि को दो लाख रुपए तक सीमित किया है क्योंकि इससे ऊंचे मूल्य के फसल ऋण को माफ करना ‘सही’ नहीं होगा। कुमारस्वामी के वित्त मंत्रालय का भी प्रभार है।

बजट के Highlights

  • फसल ऋण माफी योजना से किसानों को 34,000 करोड़ रुपए का लाभ मिलेगा।
  • कृषि ऋण माफी योजना की वजह से राज्य सरकार पर पडऩे वाले भारी बोझ के मद्देनजर कुमारस्वामी ने पेट्रोल पर कर की दर में 1.14 रुपए प्रति लीटर और डीजल पर 1.12 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि का भी प्रस्ताव किया है।
  • देसी शराब सभी 18 स्लैब पर आबकारी शुल्क में चार प्रतिशत वृद्धि का भी प्रस्ताव किया है।
  • समय पर कर्ज चुकाने वाले किसानों के खातों में ऋण की राशि या 25,000 रुपए, जो भी कम हो, डाले जाएंगे। इससे समय पर ऋण चुकाने वाले किसानों को फायदा होगा।
  •  पूर्व की कांग्रेस सरकार की सभी कल्याणकारी योजनाएं जारी रहेंगी।
  • इंदिरा कैंटिन, अन्न भाग्य योजना जारी रहेंगी, इसे और बेहतर बनाया जाएगा।
  • कुमारस्वामी ने कहा कि उन्होंने पूरी तरह अपनी सरकार बनने पर कृषि ऋण को 24 घंटे में माफ करने का वादा किया था। उन्होंने कहा , ‘‘हालांकि , राज्य के लोगों ने किसी एक पार्टी को बहुमत नहीं दिया है, लेकिन मुझे गठबंधन सरकार बनाने के लिए अच्छा अवसर मिला और साथ ही गठबंधन में मुख्यमंत्री के रूप में काम करने का मौका मिला।’’ उन्होंने कहा कि पहले चरण में उन्होंने 31 दिसंबर, 2017 तक सभी चूक वाले फसल ऋणों को माफ करने का फैसला किया है। जद (एस) ने अपने चुनाव घोषणापत्र में किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया था।

    उल्लेखनीय है कि इससे पहले बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने विश्वास जताया था कि सरकार अपने चुनावी वादे के मुताबिक किसानों का कर्ज माफ करेगी और यहीं से पूरे देश के किसानों के लिए उम्मीद पैदा होगी। गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘मुझे पूरा भरोसा है कि कांग्रेस-जद(एस) सरकार किसानों की कर्जमाफी करने और खेती को अधिक मुनाफे का काम बनाने के हमारे वादे को पूरा करेगी।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *