कर्नाटक सरकार ने आईएएस अधिकारी डी के रवि की मौत की सीबीआई जांच की मांग खारिज की।

कर्नाटक सरकार ने आईएएस अधिकारी डी के रवि की मौत की सीआईडी जांच जारी रखने का फैसला किया है। राज्य के गृहमंत्री के. जे. जार्ज ने मंत्रिमंडल की बैठक के बाद बताया कि सरकार के रूख में कोई परिवर्तन नहीं आया है।

इस बीच, सूत्रों के अनुसार सीआईडी के पुलिस महानिरीक्षक प्रणब मोहन्ती का तबादला नहीं किया जायेगा और वे ही डी.के. रवि की रहस्‍यमयी मौत की जांच करेंगे। पहले बताया जा रहा था कि उनका तबादला किया जा रहा है। श्री जार्ज ने यह भी कहा कि सरकार सी बी आई जांच की मांग पर विचार करने से पहले सीआईडी जांच की अंतरिम रिपोर्ट का इंतजार करेगी।

विधानसभा और परिषद को सोमवार तक स्‍थगित करना बीजेपी और जेडीए शासकों द्वारा राजभवन तक पद यात्रा बेंगलुरू, तुमकुर, कोलार और मैसूर में प्रदर्शन, सीआईडी द्वारा ही जांच करवाने पर अड़ी सरकार और बैंगलोर पुलिस आयुक्‍त के खिलाफ लोकायुक्‍त को कमप्‍लेन, यह सब आज की मुख्‍य गतिविधियां थी। डीके रवि के मुद्दे को सजीव रखने के लिए विपक्ष्‍ा प्रदर्शन की योजना बना रहा है। सरकार इस कोशिश में है कि लोगों को बताएं कि सीआईडी से ही न्‍याय प्राप्‍त होगा। इस बीच, श्री रवि की मृत्यु के सिलसिले में बेंगलूरू के नगर पुलिस आयुक्त एम एन रेड्डी के खिलाफ लोकायुक्त में शिकायत दर्ज कराई गई है। मानवाधिकार और भ्रष्टाचार विरोधी समिति ने अपनी शिकायत में पुलिस आयुक्त पर डी के रवि की मृत्यु के बारे में गैर जिम्मेदाराना बयान देने का आरोप लगाया है।