कल गोरखपुर जाएंगे राहुल, BRD हादसे में मृतक बच्चों के घरवालों से मिलेंगे

गोरखपुर.कांग्रेस के वाइस प्रेसिडेंट राहुल गांधी शनिवार को गोरखपुर जाएंगे। वे यहां उन बच्चों के घरवालों से मिलेंगे, जिनकी बीआरडी मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई थी। बता दें कि इससे पहले भी कांग्रेस का एक डेलीगेशन दिल्ली से गोरखपुर गया था, जि‍समें पार्टी के सीनियर नेता गुलाम नबी आजाद, आरपीएन सिंह और राज बब्बर शामिल थे। इन नेताओं ने हॉस्प‍िटल में बच्चों की मौत के लिए सीधे तौर पर योगी सरकार पर सवाल उठाया था। गोरखपुर के बीआरडी हॉस्पिटल में बीते दिनों 30 बच्चों समेत 60 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी।
कांग्रेस ने लखनऊ में किया था प्रदर्शन…
– घटना के बाद यूपी कांग्रेस चीफ राज बब्बर ने बड़ी तादाद में कांग्रेस वर्कर्स के साथ लखनऊ में योगी सरकार के खिलाफ प्रोटेस्ट किया था। राज बब्बर ने योगी सरकार को हत्यारी सरकार करार दिया था। वे दो बार पुलिस हिरासत में भी लिए गए थे। माना जा जा रहा है कि राहुल गांधी के गोरखपुर पहुंचने से मामला एक बार तूल पकड़ सकता है।
– बता दें, 7 अगस्त को हुई मौतों के बाद से ही डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन, हॉस्पिटल और राज्य सरकार की ओर से अलग-अलग बयान आए हैं। सरकार का कहना है कि ये मौतें इंसेफेलाइटिस से हुई हैं। ऑक्सीजन की कमी के चलते मौतों की बात से सरकार इनकार कर रही है।
क्या होता है इंसेफेलाइटिस?
– इंसेफलाइटिस को दिमागी बुखार भी कहा जाता है। हकीकत में यह वायरल इन्फेक्शन है। इसकी चपेट में ज्यादातर बच्चे आते हैं। इसमें तेज बुखार, दर्द के साथ शरीर पर चकते आ जाते हैं।’
डीएम ने सौंपी जांच रिपोर्ट
– इस बीच बच्चों की मौत के मामले में गोरखपुर कलेक्टर ने अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपी है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, इसमें डीएम राजीव रौतेला ने ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली फर्म पुष्पा सेल्स को जिम्मेदार ठहराया है। साथ ही मेडिकल कॉलेज के सस्पेंड प्रिंसिपल आरके मिश्रा और एनेस्थीसिया डिपार्टमेंट के डॉक्टर सतीश को भी इस ट्रेजडी की वजह बताया है।
आज हो सकती है कोर्ट में सुनवाई
– मामले को लेकर बीते बुधवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका (पीआईएल) दायर की गई थी, जिस पर शुक्रवार को चीफ जस्टिस डीबी भोसले और जस्टिस एमके गुप्ता की बेंच सुनवाई कर सकती है।
– इस पिटीशन में ज्युडीशियल इंक्वायरी और मारे गए लोगों के परिवार वालों को मुआवजा देने की मांग की गई है। पिटीशन में डॉक्टरों की प्राइवेट प्रैक्टिस पर भी रोक लगाने की भी मांग की गई है। यह पिटीशन एडवोकेट सुनीता शर्मा और सोशल एक्टिविस्ट कमलेश सिंह ने दायर की है।
क्या है गोरखपुर ट्रेजडी?
– बाबा राघव दास (BRD) मेडिकल कॉलेज में 7 अगस्त से लेकर 12 अगस्त तक 30 बच्चों समेत 60 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। आरोप है कि ये मौतें हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने की वजह से हुईं।
– कहा जा रहा है कि पुष्पा सेल्स नाम की कंपनी ने पेमेंट बकाया होने की वजह से ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई रोक दी थी। कंपनी ने कहा कि हमने 14 रिमांडर भेजे, लेकिन इसके बाद भी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ने कोई एक्शन नहीं लिया।
UP सरकार ने क्या कदम उठाया?
– बच्चों की मौत का मामला सामने आने के बाद बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल राजीव मिश्रा को 12 अगस्त को सस्पेंड कर दिया। इसके बाद उन्होंने कहा कि मैंने अपनी जिम्मेदारी मानते हुए सस्पेंशन से पहले ही इस्तीफा सौंप दिया था।
– इसके बाद 13 अगस्त को योगी आदित्यनाथ ने मेडिकल कॉलेज का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने बंद कमरे में यहां के स्टाफ की क्लास लगाई। विजिट के बाद सीएम योगी ने कहा कि बच्चों की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ हर मुमकिन कदम उठाया जाएगा।
– इसी दिन हॉस्प‍िटल के सुपरिंटेंडेट और वाइस प्रिंसिपल डॉक्टर कफील खान को पद से हटा दिया गया। उनकी जगह डॉ. भूपेंद्र शर्मा को अप्वाइंट किया गया।
अमित शाह ने क्या कहा?
– वहीं, अमित शाह ने गोरखपुर ट्रेजडी पर कांग्रेस की उस मांग को ठुकरा दिया है, जिसमें सीएम आदित्यनाथ योगी के इस्तीफे की मांग की गई थी। उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाएं कांग्रेस की सत्ता वाले राज्यों में होती रही हैं। इस्तीफा मांगना कांग्रेस का काम है। इतने बड़े देश में बहुत सारे हादसे हुए, पहली बार ऐसा हादसा नहीं हुआ है।