कश्मीर के त्राल में सिक्युरिटी फोर्सेज ने एनकाउंटर में 3 आतंकी मार गिराए

श्रीनगर. साउथ कश्मीर के त्राल में शनिवार सुबह सिक्युरिटी फोर्सेज ने एनकाउंटर में 3 आतंकी मार गिराए। दोनों तरफ से फायरिंग त्राल के सतोरा इलाके में अभी जारी है। यहां 4 से 5 आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया, इसी दौरान आतंकियों ने गोलीबारी शुरू कर दी।
पूरे इलाके को सील किया गया…
– पुलवामा जिले के त्राल में सिक्युरिटी फोर्सेज और स्टेट पुलिस ने ज्वाइंट सर्च ऑपरेशन छेड़ रखा है। जहां एनकाउंटर चल रहा है, उस इलाके को पूरी तरह सील कर दिया गया है।
– इससे पहले 9 जुलाई को त्राल के अरिबल टाउन में आतंकियों ने सिक्युरिटी फोर्सेज के एक कैम्प पर ग्रेनेड हमला किया था, जिसमें CRPF का एक जवान जख्मी हो गया था।
– एडमिनिस्ट्रेशन ने जम्मू नेशनल हाईवे पर बड़े आतंकी हमले की आशंका के चलते अलर्ट जारी किया है। बिजबिहाड़ा से श्रीनगर और पंथाचौक-नौगाम-हैदरपोरा-बेमिना बाईपास और एचएमटी से गांदरबल मार्ग को सेंसिटिव घोषित किया गया है।
इस साल 7 महीने में 102 आतंकी मारे गए
– सिक्युरिटी फोर्सेज और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इस साल अब तक यानी 7 महीने में 102 आतंकियों को मार गिराया है। एक पुलिस ऑफिशियल ने बताया कि 7 साल में इस बार जनवरी से जुलाई के दौरान सबसे ज्यादा आतंकी मारे गए हैं।
– “इससे पहले 2010 में जनवरी और जुलाई के बीच सबसे ज्यादा 156 आतंकी मारे गए थे। 2016 में इस अवधि में 77 आतंकी मारे गए थे। पुलिस के पास मौजूद आंकड़ों के मुताबिक 2015 और 2014 में इसी अवधि में 51-51 आतंकी, 2013 में 43 आतंकी, 2012 में 37 आतंकी और 2011 में इस अवधि में 61 आतंकी मारे गए थे।”
– पुलिस ऑफिशियल ने बताया कि एक ऑपरेशनल स्ट्रैटजी के तहत विभिन्न संगठनों के आतंकियों को मार गिराने में तेजी लाई गई है।
अमरनाथ यात्रियों पर हमला, 7 श्रद्धालुओं की मौत
– 10 जुलाई की रात अनंतनाग में आतंकियों ने अमरनाथ यात्रियों की बस पर हमला किया था। इसमें 5 महिलाओं समेत 7 यात्रियों की मौत हो गई थी। 15 तीर्थयात्री जख्मी भी हुए थे। हमले के शिकार 3 यात्री गुजरात, 2 दमन और 2 महाराष्ट्र के थे। सभी यात्रा पूरी कर जम्मू लौट रहे थे।
17 साल पहले 27 लोग मारे गए थे
– 2000 में अमरनाथ यात्रियों को पहलगाम में निशाना बनाया गया था। तब हुए हमले में 17 यात्रियों समेत 27 लोगों की मौत हुई थी। 36 घायल हो गए थे।
– 2007 में भी अमरनाथ यात्रियों की बस को निशाना बनाया गया था। उस हमले में कई लोग घायल हुए थे।
घुसपैठ की कोशिश नाकाम, 3 आतंकी ढेर
– उधर, कुपवाड़ा सेक्टर में 10 जुलाई को सेना ने आतंकी घुसपैठ की एक बड़ी साजिश नाकाम की थी। इस दौरान 3 आतंकी मारे गए थे।
– दूसरी ओर, पाकिस्तान को सख्त मैसेज देते हुए सरकार ने पुंछ-रावलकोट बस सर्विस एक हफ्ते के लिए सस्पेंड कर दी है।