कश्मीर में लगे ‘भारतीय मोदी आर्मी’ के पाेस्टर्स, BJP ने पुलिस से कहा- कड़ा एक्शन लें

श्रीनगर.कश्मीर में ‘भारतीय मोदी आर्मी’ (बीएमए) के पोस्टर्स नजर आने से बीजेपी में खलबली मच गई है। पार्टी ने पुलिस से बीएमए पर सख्त कार्रवाई की मांग की है। उधर, बीएमए का कहना है कि यह मोदी के फैन्स का 7 साल पुराना इंटरनेशनल नेटवर्क है। इससे 14 लाख कार्यकर्ता जुड़े हैं जो मोदी की सेकुलर इमेज प्रोजेक्ट कर रहे हैं।
सोमवार को जम्मू-कश्मीर में खुला था ऑफिस
 – मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी ने कश्मीर के आईजी जावेद मुज्तबा गिलानी को लेटर लिखकर बीएमए की शिकायत की है।
– बीजेपी ने मांग की है कि बीएमए की एक्टिविटीज को रोका जाना चाहिए।
– वहीं गिलानी ने शुक्रवार तक ऐसा कोई लेटर मिलने से इनकार किया है।
– बता दें कि बीएमए ने श्रीनगर के राजबाग इलाके में सोमवार को अपने ऑफिस का इनॉगरेशन किया था।
– बीजेपी ने कहा, ‘हमारा बीएमए से कोई ताल्लुक नहीं है। हमारी लोगों से अपील है कि उन लोगों के जाल में न फंसें।’
– बीजेपी का आरोप है कि कुछ ‘बदमाश लोग बीएमए नाम का एक संगठन चला रहे हैं और उनकी एक्टिविटीज के बारे में अभी ठीक से पता भी नहीं है।’
– जम्मू-कश्मीर बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी अशोक कौल के मुताबिक, ‘हमने इस नाम से कोई पार्टी नहीं बनाई है।’
– ‘ जो भी मोदी या पार्टी का नाम यूज कर रहा है, वह जल्दी ही जनता के सामने एक्सपोज हो जाएगा।’
क्या है बीएमए?
 – हिंदुस्तान टाइम्स की रिपाेर्ट के मुताबिक, बीएमए को एक कोर मेंबर ने कहा, ‘हमारा ऑर्गनाइजेशन पीएम नरेंद्र मोदी के फैन्स का है। हमारा मकसद मोदीजी के मिशन और विजन को उन लोगों तक पहुंचाना है जो उन्हें और उनके काम को नहीं जानते।’
– बीएमए के नेशनल प्रेसिडेंट राजीव आहूजा कहते हैं, ‘हमारे ऑर्गनाइजेशन को आप बीजेपी की पॉलिटिकल सेल नहीं मान सकते। मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश समेत 19 राज्यों में हमारा संगठन है।’
– ‘बीएमए मूल रूप से मोदी के फैन्स का 7 साल पुराना इंटरनेशनल नेटवर्क है। इसके 14 लाख कार्यकर्ता भारत में और करीब 1.5 लाख वर्कर फॉरेन कंट्रीज में फैले हैं।’
– आहूजा के फेसबुक अकाउंट पर उनकी मोदी-शाह समेत कई बीजेपी नेताओं के साथ फोटो है।
और क्या कहते हैं आहूजा?
– ‘बीएमए के मेंबर देश से बहुत प्यार करते हैं। हम साफ कर देना चाहते हैं कि हम कोई पॉलिटिकल पार्टी नहीं हैं और न ही हम इलेक्शन लड़ेंगे।’
– ‘हम बस इतना चाहते हैं कि अगर आप वोट देना चाहते हैं तो मोदी को दें।’
– ‘बीएमए उन इलाकों में काम कर रही है जहां बीजेपी की मौजूदगी ज्यादा नहीं है, मसलन नॉर्थ-ईस्ट और कश्मीर।’
– ‘कश्मीर में ज्यादातर लोग मानते हैं कि मोदी की नॉन सेक्युलर इमेज अपोजिशन की गढ़ी हुई है। हम लोगों को समझा रहे हैं कि ये गलत है।’
– आहूजा के मुताबिक बीते समय में वे बीजेपी से जुड़े थे और पार्टी में कई पदों पर भी रह चुके हैं।
‘बीजेपी भी कर रही सपोर्ट’
– आहूजा के मुताबिक भले ही स्टेट बीजेपी हमारे ऑर्गनाइजेशन पर सवाल खड़े कर रही हो लेकिन बीजेपी के कई लीडर्स का हमें ‘आशीर्वाद’ मिल रहा है।
– कश्मीर में बीएमए की कमान संभाल रहे मंजूर अहमद खान के मुताबिक, ‘हम बीते 6 महीने से जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं। अभी तक हमारे 9 हजार मेंबर बन चुके हैं। इनमें से ज्यादातर मुस्लिम हैं।’
– मंजूर कहते हैं, ‘हमारा मकसद मोदी जी के अच्छे कामों के बारे में लोगों को बताना। हम अंदरूनी इलाकों में जाकर लोगों को मुद्रा लोन स्कीम, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना और स्वच्छ भारत अभियान के बारे में बता रहे हैं।’
– ‘साथ ही हमारा मकसद 2019 में मोदी को दोबारा पीएम बनाना है।’