कहां हैं अच्छे दिन? वे 15 सवाल, जो आप मोदी सरकार से पूछना चाहते हैं

नई दिल्ली.मोदी एंड टीम सरकार में बने रहने के दो साल पूरे कर रही है। 24 महीने के दौरान हम सभी ने मोदी को खूब देखा-सुना, लेकिन अब दिन परखने के चल रहे हैं। ये पूछ-परख उन अच्छे दिनों के वादों और इरादों की है जो नरेंद्र दामोदरदास मोदी ने अपने ऐतिहासिक इलेक्शन कैंपेन में किए और पीएम बनकर बार-बार दोहराए। ऐसे दर्जनों सवाल थे जिनको मुद्दा बनाकर मोदी ने जोर-शोर से देश नापा था। मोदी सरकार के दो साल के पड़ाव पर ने अपने नेटवर्क के जरिए लोगों का मन टटोला है।
दो साल बाद अब बारी लोगों की है . . .
– मोदी ने तकरीबन हर सभा में लोगों से पूछा- ”आप मुझे बताइए कि काला धन वापस लाना चाहिए या नहीं ? आपको बिजली-पानी, शौचालय, स्वास्थ्य सुविधाएं और बच्चों को अच्छी शिक्षा चाहिए कि नहीं चाहिए? कोयला चोरों को जेल भेजना चाहिए कि नहीं चाहिए?”
– tatparpatrika.com ने यह समझने की कोशिश की कि लोग मोदी से कितने संतुष्ट हैं? और अगर नहीं हैं तो उनमें मन में ऐसे कौन-से सवाल हैं जो वाकई अब पूछे जाने चाहिए?
कितना चला मोदी मैजिक?
– दो साल बाद भी लोगों को समझ नहीं आ रहा कि मोदी मैजिक कितना चला है? अच्छे दिनों का इंतजार तो खत्म होने का नाम नहीं ले रहा।
– उस पर दादरी कांड और पीएफ के मुद्दे सब किए-कराए पर पानी फेर रहे हैं।
– ऐसी ही परख में जब हम लोगों के पास पहुंचे तो उनके सवालों की सूची लंबी बन गई।
– इसमें चुभन है, पीड़ा है, दर्द है, गुस्सा है और कहीं थोड़ा-बहुत संतोष भी कि अभी तो दो ही साल हुए हैं।
– हमने ऐसे 15 सवाल चुने हैं जो ज्यादातर लोगों के मन में हैं।
– आम लोग काले धन से लेकर मोदी की तमाम योजनाओं और उनकी दूसरी पारी तक के बारे में सवाल पूछ रहेहैं। जाहिर है मोदी से उम्मीदें बड़ी हैं तो सवालों भी कम नहीं हैं।