कार्पोरेट जासूसी मामले में प्रमुख ऊर्जा कम्‍पनियों के पांच वरिष्‍ठ अधिकारी गिरफ्तार।

दिल्‍ली पुलिस ने कार्पोरेट जासूसी मामले में देश की बड़ी निजी ऊर्जा कंपनियों के वरिष्ठ अधिकारियों सहित सात और लोगों को गिरफ्तार किया है। जिन अधिकारियों को गिरफ्तार किया गया है

वे हैं रिलायंस इंडस्ट्रीज के कारपोरेट मामलों के प्रबंधक शैलेश सक्सेना, एस्सार के उपमहाप्रबंधक विनय कुमार, जुबिलेंट एनर्जी के वरिष्ठ एग्जिक्यूटिव सुभाष चंद्रा, केयर्न्स इंडिया के महाप्रबंधक के. के. नाइक और रिलायंस एडीएजी के उपमहाप्रबंधक ऋषि आनंद।  इन अधिकारियों को चुराई गई संपत्तियों को हासिल करने वालों के रूप में श्रेणीबद्ध किया गया है। इन लोगों ने इस मामले में पहले से ही गिरफ्तार लोगों से दस्तावेज की या तो मांग की थी या खरीदे थे। कल जिन दो अन्य लोगों को गिरफ्तार किया था, वे हैं शांतनु सैकिया और प्रयास जैन। शांतनु एक एनर्जी पोर्टल चलाता है और प्रयास जैन ऊर्जा सलाहकार है। इसके साथ ही कॉरपोरेट जासूसी मामले में गिरफ्तार लोगों की संख्‍या बढ़कर 12 हो गयी है।

शांतनु सैकिया और प्रयास जैन को दो अन्य लोगों राकेश कुमार और लालता प्रसाद के साथ 23 फरवरी तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। कुमार और प्रसाद को पहले ही गिरफ्तार किया गया था। तीन सरकारी कर्मचारी, आशाराम और ईश्वर सिंह तथा ड्राइवर राजकुमार चौबे पहले से ही 14 दिन की न्यायिक हिरासत में हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *