काेरोनावायरस और यस बैंक संकट से सेंसेक्स 1459 अंक नीचे आया; यस बैंक के शेयर 76% गिरे, एसबीआई 12% लुढ़का

कोरोनावायरस और यस बैंक के संकट से घबराए निवेशक भारी मात्रा में शेयरों को बेच रहे हैं। इस कारण बाजार खुलते ही सेंसेक्स 1459 प्वाइंट लुढ़क कर 37,011.09 पर आ गया। निफ्टी 442 अंक गिरकर 10,827.40 अंकों पर पहुंच गया। एनएसई पर यस बैंक के शेयर 77% तक नीचे गिर गए हैं। एसबीआई के शेयर में 12% की गिरावट देखने को मिल रही है। गुरुवार को ऐसी रिपोर्ट आई थी कि यस बैंक को बचाने के लिए सरकार एसबीआई को आगे कर सकती है, इस कारण एयबीइाई के शेयरों में गिरावट देखने को मिल रही है। हालांकि, एसबीआई ने साफ किया है कि यस बैंक में निवेश की कोई बात नहीं चल रही।

बाजार में गिरावट की दो वजह
1.
 कोरोनावायरस का संक्रमण बढ़ने की वजह से अर्थव्यवस्था को नुकसान होगा। इस चिंता से दुनियाभर के बाजारों में बिकवाली हो रही है। अमेरिकी और प्रमुख एशियाई बाजार 3% तक लुढ़क गए। 
2. भारत में यस बैंक के संकट की वजह से पूरे बैंकिंग और फाइनेंशियल सेक्टर के शेयरों में बिकवाली तेज हो गई। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने गुरुवार को यस बैंक का मैनेजमेंट कंट्रोल अपने हाथ में लेकर रकम निकासी की लिमिट तय कर दी। खाताधारक 50,000 रुपए से ज्यादा विड्रॉल नहीं कर पाएंगे। हालांकि, आरबीआई ने कहा है कि यस बैंक की रिस्ट्रक्चिरिंग का प्लान जल्द बताया जाएगा।

इंडसइंड बैंक के शेयर में 11% गिरावट
सेंसेक्स के सभी 30 और निफ्टी के सभी 50 शेयर नुकसान में हैं। टाटा मोटर्स में 8% गिरावट आ गई। टाटा स्टील 5.5% नीचे आ गय। इंडसइंड बैंक का शेयर 11% लुढ़क गया। बजाज फाइनेंस 5% लुढ़क गया।आईसीआईसीआई बैंक में 3.5% और एचडीएफसी में 3.3% नुकसान देखा गया।

विदेशी बाजारों का हाल

इंडेक्स/देशगिरावट
नैस्डेक (अमेरिका)3.10%
एफटीएसई (लंदन)1.62%
सीएसी (फ्रांस)1.90%
निक्केई (जापान)2.86%
हेंगसेंग (हॉन्गकॉन्ग)2.15%
शंघाई कंपोजिट (चीन)0.98%

दिल्ली में कोरोना वायरस का नया मामला, देश में कुल 31 मरीज

कोरोना वायरस चीन से बाहर दूसरे देशों में तेजी से फैलता जा रहा है। वायरस की वजह से दुनियाभर के 3282 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, दिल्ली में कोरोना वायरस का एक और मामला सामने आया। उत्तम नगर के रहने वाले पीड़िस सख्श ने हाल ही में थाइलैंड और मलेशिया की यात्रा की थी। भारत में अबतक कोरोना वायरस के 31 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। 

गूगल, ट्विटर समेत कई दिग्गज कंपनियों की टेंशन बढ़ी, दिल्ली-एनसीआर में सर्जिकल मास्क की कीमत 20-30 गुना तक बढ़ी

कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर से निकल कर दुनिया में महामारी का रूप ले रहा है। दुनियाभर में अब तक 3000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में भी अब तक कुल 29 मामले सामने आ चुके हैं। इस बीच ट्विटर, गूगल, माइक्रोसोफ्ट समेत कई कंपनियों ने इस घातक वायरस के संक्रमण से अपने कर्मचारियों को बचाने के लिए उन्हें घर से काम करने की छूट दी है। वहीं कोरोना वायरस से बचाव के लिए लोग भारी तादाद में मास्क और हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसकी वजह से मार्केट में इनकी कमी हो गई है। डिमांड बढ़ने की वजह से मास्क और सैनिटाइजर दोगुने कीमत पर बिक रहे हैं।

सर्जिकल मास्क की कीमत 20 से 30 गुना बढ़ी
दिल्ली-एनसीआर के बाजार में एन 95 मास्क नहीं मिल रहे हैं। दिल्ली-एनसीआर के बाजार में हैंड सैनिटाइजर की कमी और इसकी कीमत में तेजी की बात भी सामने आई है। सर्जिकल मास्क की कीमत 20 से 30 गुना बढ़ने की रिपोर्ट आ रही हैं। दिलचस्प बात तो यह है कि अमेजन, फ्लिपकार्ट, बिग बास्केट और ग्रोफर्स के पास भी दिल्ली के कई इलाके में डिलीवरी के लिए सैनिटाइजर नहीं हैं।

पेटीएम ने दो दिन के लिए बंद कर दिया ऑफिस
ऑनलाइन भुगतान की सुविधा देने वाली पेटीएम के एक कर्मचारी के घातक कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद कंपनी ने उत्तर प्रदेश के नोएडा में स्थित अपने पांच और हरियाणा के गुड़गांव में स्थित अपने एक दफ्तर को दो दिनों के लिए बंद रखने की घोषणा की। पेटीएम ने विज्ञप्ति जारी कर कहा कि कर्मचारी के संक्रमित होने और दफ्तर बंद होने से उसकी सेवाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा। विज्ञप्ति में बताया गया है कि पेटीएम के सभी छह कार्यालयों को सेनिटाइजेशन (साफ-सफाई) के लिए बंद किया गया है। साथ ही, कंपनी ने अपने कर्मचारियों को दो दिनों की छुट्टी पर भेज दिया है। कंपनी ने बयान जारी करके बताया कि कर्मचारी हाल ही में इटली से छुट्टी मना कर लौटा था।

ट्विटर ने अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की दी छूट
कोरोना वायरस के चलते माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर ने अपने कर्मचारियों को वर्क फर्म होम यानि घर से ही काम करने को कहा है। कंपनी ने हॉन्ग कॉन्ग, जापान और साउथ कोरिया में अपने 5,000 कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम की इजाजत दी है। वहीं, अन्य देशों के ट्विटर एंप्लॉइ को कंपनी ने घर से काम करने का ऑप्शन दिया है। अगर वो चाहें तो ऑफिस आ सकते हैं या घर से काम कर सकते हैं। इसके अलावा माइक्रोसॉफ्ट ने सिएटल और सैन फ्रांसिस्‍को में अपने कर्मचारियों को 25 मार्च तक घर से काम करने की छूट दी है। कंपनी ने लगभग 54,000 कर्मचारियों को घर से काम करने की छूट दी है।

गूगल ने भी बरती सावधानी
कोरोना वायरस के चलते गूगल ने भी अपने कर्मचारियों को राहत दी है। गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने जानकारी दी है कि कंपनी दुनिया भर के सभी जी सूट ग्राहकों के लिए हैंगआउट मीट वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग क्षमताओं का मुफ्त एक्सेस देगी। यह मुफ्त एक्सेस इस हफ्ते से शुरू हो जाएगा और 1 जुलाई तक बिना किसी शुल्क के उपलब्ध होगा। गूगल हैंगआउट मीट के जरिए कर्मचारी घर बैठे मीटिंग में भाग ले सकेंगे। इसमें प्रति कॉल 250 कर्मचारी एक साथ भाग ले सकेंगे। इसके अलावा इसमें एक डोमेन के अंदर 1,00,000 व्यूअर्स के लिए लाइव स्ट्रीमिंग हो सकेगी। यहां तक की मीटिंग को रिकॉर्ड किया जा सकेगा और गूगल ड्राइव पर सेव भी किया जा सकेगा। सिस्को ने भी इसी तरह का कदम उठाया है और अपने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग टूल की मुफ्त पहुंच की घोषणा की है।

देश के सबसे बड़े इलेक्ट्रोनिक मार्केट नेहरू प्लेस में घटे ग्राहक
कोरोनावायरस के चलते इलेक्ट्रॉनिक आइटम महंगे होते जा रहे हैं। चूंकि ज्यादातर इलेक्ट्रॉनिक आइटम चीन से आते हैं, इसलिए अब इनकी सप्लाई बंद हो गई है। बाजार में पहले का जो माल बचा है, वही बिक रहा है। कंप्यूटर, लैपटॉप, हार्डडिस्क, रैम, की-बोर्ड्स और दूसरे उपकरणों की कीमतें तकरीबन 30 फीसदी बढ़ चुकी हैं। मार्केट से ग्राहक नदारद हैं। ज्यादातर लोग मार्केट जाने से कतरा रहे हैं।

दुनियाभर में अब तक 3282 लोगों की मौत, फिर भी बचाव के लिए पर्याप्त उपाय नहीं करने वाले देशों की लंबी लिस्ट: डब्ल्यूएचओ

कोरोनावायरस की चपेट में दुनिया के करीब 80 देश हैं। इससे अब तक 95 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हो गए हैं, जबकि 3282 की मौत हो चुकी है। वहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने गुरुवार को कहा कि ऐसे देशों की लंबी लिस्ट है, जो वायरस से बचाव के लिए कुछ नहीं कर रहे हैं। डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस घेब्रेयोसुस ने इस पर चिंता जताई। उन्होंने जेनेवा में कहा कि महामारी से निपटने के लिए प्रतिबद्धता में कमी दिख रही है। यह वक्त पीछे हटने का नहीं, बल्कि मिलकर काम करने का है।

दुनियाभर में ये स्थिति

एशिया

माना जा रहा है कि चीन के वुहान के सी-फूड और पोल्ट्री मार्केट से वायरस फैला। वुहान की आबादी 1.1 करोड़ है। वायरस लोगों से लोगों में फैल रहा है। हालांकि, यह साफ नहीं है कि वायरस तेजी से कैसे फैला और इतना खतरनाक कैसे हुआ? एशिया में दक्षिण कोरिया, ईरान सबसे ज्यादा इससे प्रभावित है।

भारत में कोरोनावायरस के 31 मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने गुरुवार को कहा कि मंत्रियों का समूह सभी पीड़ितों पर नजर बनाए हुए है। विदेश से आने वाले सभी लोगों की 21 एयरपोर्ट्स पर स्क्रीनिंग की जा रही है। सरकार ने ये भी साफ किया है कि दक्षिण कोरिया और इटली से आने वालों को पहले कोरोनावायरस फ्री सर्टिफिकेट दिखाना होगा। राजस्थान में इटली के दाे पर्यटकाें के काेराेनावायरस से पीड़ित मिलने के बाद इन पर्यटकाें के 26 सदस्यीय दल के संपर्क में आए लाेगाें में से 247 की जांच की गई। इनमें से सभी की रिपाेर्ट निगेटिव आई है। उधर, विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि कोरोनावायरस के कारण इस महीने होने वाला भारत-ईयू शिखर सम्मेलन स्थगित कर दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसमें शामिल होने के लिए ब्रसेल्स जाने वाले थे।

भूटान में संक्रमण की पहले मामले की पुष्टि

भूटान में कोरोनावायरस का पहला मामला सामने आया है। एक अमेरिकी पर्यटक में संक्रमण की पुष्टि हुई है। 76 साल का अमेरिकी नागरिक दो मार्च को भारत से भूटान आया था। 5 मार्च को बुखार के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। प्रधानमंत्री लोते शेरिंग ने फेसबुक पोस्ट के जरिए इसकी जानकारी दी है। वहां की सरकार ने संक्रमण रोकने के लिए विदेशियों के लिए सीमाएं दो हफ्तों के लिए बंद कर दी है। पोस्ट में उन्होंने कहा कि अमेरिकी नागरिक 10 फरवरी को अपने देश से रवाना हुआ था। वह 21 फरवरी को 1 मार्च तक भारत में था।

ईरान

ईरान में अब तक 107 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि संक्रमण के 3513 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, शुक्रवार से भारत और ईरान के बीच अपने-अपने नागरिकों को निकालने के लिए विशेष विमान सेवा शुरू होगी। जानकारी के मुताबिक, ईरान में करीब हो हजार भारतीय फंसे हुए हैं। वहीं, भारत में भी ईरान के नागरिक फंसे हैं। वहीं, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को कहा था कि मेडिकल टीम गुरुवार शाम तक ईरान पहुंचकर कोमा में आइसोलेशन सेंटर स्थापुित करेगी, जिसके बाद लोगों की स्क्रीनिंग की जा सकेगी।

दक्षिण कोरिया

दक्षिण कोरिया में कोरोनावायरस से अब तक संक्रमण के 6284 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 40 लोगों की मौत हो चुकी है। 

चीन में संक्रमण के 143 नए मामले

कोरोनावायरस से चीन में अब तक 3015 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, संक्रमण के 80552 मामलों की पुष्टि हुई है। चीन के बाहर 267 मौतें हुई हैं। चीन के हेल्थ कमीशन ने शुक्रवार को बताया कि यहां गुरुवार को संक्रमण के 143 नए मामले और 30 मौतें दर्ज की गई। इनमें हुबेई में 29 लोग मारे गए। वहीं, अब तक हुबेई प्रांत में सबसे ज्यादा 2931 लोगों की मौत हुई है। महामारी का केंद्र चीन का वुहान शहर है, जो हुबेई प्रात में ही है।

केटी पेरी और ऑरलैंडो ब्लूम की शादी टली

पीपुल मैग्जीन के अनुसार, कोरोनावायरस की वजह से पॉप स्टार केटी पेरी और अभिनेता ऑरलैंडो ब्लूम की जापान में होने वाली शादी भी टल गई है। दोनों जून में शादी करने वाले थे। ऑरलैंडो और केटी अपने पहले बच्चे की उम्मीद कर रहे हैं।

यूरोप

इटली के 22 राज्य वायरस की चपेट में

यूरोप में सबसे ज्यादा प्रभावित देश इटली है। यहां 148 लोगों की मौत हुई है। यह चीन के बाहर दूसरी सबसे ज्यादा मौत है। इटली के 22 राज्य इसकी चपेट में हैं। वहीं, संक्रमण के 3858 मामले सामने आए हैं। इसके खतरे को देखते हुए देशभर के स्कूलों में छुट्टी कर दी गई है।

अमेरिका में 12 लोगों की मौत

न्यूयॉर्क टाइम्स के एक डेटाबेस के मुताबिक, लैब टेस्ट में गुरुवार शाम तक कोरोनोवायरस से संक्रमण के 215 मामले सामने आ चुके हैं और 12 मौतों की पुष्टि हो चुकी है। मरने वालों में ज्यादतर जापान के डायमंड प्रिंसेज शिप से लौटे यात्री हैं। अमेरिका लाए गए लोगों को फिलहाल क्वारैंटाइन (अलग-थलग) किया गया है।

देशसंक्रमण मौत
चीन804253013
द. कोरिया628440
इटली3858148
ईरान3513107
जापान10368
जर्मनी5450
फ्रांस4237
स्पेन2823
अमेरिका21512
स्विट्जरलैंड1191
सिंगापुर1170
ब्रिटेन1161
हॉन्गकॉन्ग1052
स्वीडन940
ऑस्ट्रेलिया531
थाईलैंड471
ताइवान441
इराक352
सैन मारिनो211

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *