किसान न्याय योजना की राशि खरीफ सीजन की खेती में बना मददगार

छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी योजना राजीव गांधी किसान न्याय योजना कोरोना काल में खरीफ सीजन की खेती के लिए आर्थिक मदद के रूप में किसानों का सहारा बना है। अम्बिकापुर जनपद पंचायत के अंतर्गत ग्राम पंचायत आमादरहा निवासी श्री लालता प्रसाद राजवाड़े के खाते में योजना के तहत प्रथम किश्त के रूप में 11 हजार 590 रुपए की राशि डीबीटी के माध्यम से जमा किया गया है। इस राशि के मिलने से किसान लालता प्रसाद को अपने खेत मे खरीफ धान की फसल लगाने में सहायता मिली है। उन्होंने कोरोना संकटकाल में आर्थिक मदद मिलने पर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल को धन्यवाद दिया है।

परिवार में 4 सदस्यों के मुखिया श्री लालता प्रसाद ने बताया कि उनके नाम पर करीब 5 एकड़ पैतृक कृषि भूमि है। परिवार के भरण-पोषण का मुख्य जारिया खेती किसानी ही है। इस वर्ष अपने खेतों में धान की फसल लगा रहे हैं। कोरोना संक्रमण के कारण लगाए गए लॉकडाउन के कारण धान की खेती के लिए खाद-बीज हेतु पैसों का इंतजाम करने में दिक्कत आ रही थी। इसी बीच राजीव गांधी किसान न्याय योजना से 11 हजार 590 रूपए की पहली किश्त मिलने से खेत मे मजदूरी तथा रोपा लगाने के लिए मदद मिल गया और लगभग 5 एकड़ भूमि पर धान की रोपाई कर पाया। किसान श्री लालता प्रसाद ने कहा कि विषम परिस्थिति में न्याय योजना की राशि मिलने से धान की खेती करने में बहुत सहायता मिला। खेतों में जुताई, बोआई और खाद बीज का प्रबंध करने में बहुत फायदेमंद साबित हुआ। जनहितैषी मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना का शुभांरभ कर किसानों की आर्थिक समस्या का समाधान करने का बीड़ा उठाया है।

धान की फसल लेने के साथ ही लालता प्रसाद गेंहू, मकाई, अरहर, अदरक, टमाटर, बैंगन और अन्य साग भाजी अपने बाड़ी में लगाते हैं। उनके बाड़ी में सिंचाई के लिए कुँआ और बोर भी लगा हुआ है। बाड़ी के माध्यम से उन्हें आजीविका चलाने के लिए अच्छी आय प्राप्त हो जाती है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने 21 मई को राजीव गांधी किसान योजना का शुभारंभ पूरे छत्तीसगढ़ के किसानों के लिए किया। सम्पूर्ण छत्तीसगढ़ में लागू इस योजना के लिए वे सभी किसान पात्र हैं जो विगत वर्ष धान की बिक्री सहकारी समिति के माध्यम से किये हैं। राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत जिले के 29 हजार 129 किसानों को 91 करोड़ 38 लाख रूपए का भुगतान 4 किश्तों की जाएगी। प्रथम किश्त के रूप में 21 मई को जिले के 29 हजार 129 किसानों को 24 करोड़ 12 लाख रूपए डीबीटी के माध्यम से किसानों के खाते में ट्रांसफर की गई है। योजना की द्वितीय किश्त 20 अगस्त को जारी की जाएगी।