कीचड़ देख नंगे पैर चलीं महाराष्ट्र की मिनिस्टर पंकजा, स्टाफ से उठवाई चप्पल

मुंबई. महाराष्ट्र की रूरल डेवलपमेंट मिनिस्टर पंकजा मुंडे एक बार फिर विवादों में फंसती नजर आ रही हैं। पंकजा ने स्टाफ से अपनी चप्पल उठवाई है। यह घटना उस वक्त हुई जब पिछले दिनों वह राज्य के सूखा प्रभावित इलाकों के दौरे पर थीं। कांग्रेस ने पंकजा की इस हरकत पर सवाल उठाते हुए कहा है कि मंत्री का यह रवैया सही नहीं है।
क्या है मामला
पकंजा मुंडे पिछले दिनों महाराष्ट्र के सूखा प्रभावित परभणी जिले के दौरे पर गई थीं। वहां कीचड़ भरा रास्ता आने पर उन्होंने अपनी चप्पल निकाल दी। वह नंगे पैर चल रही थीं, जबकि उनका एक स्टाफ उनकी चप्पल हाथ में लिए चल रहा था। एक न्यूज चैनल ने इसका वीडियो दिखाया है, जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया है।
पंकजा मुंडे की सफाई
विवाद पर सफाई देते हुए पंकजा ने कहा है कि जिसने उनकी चप्पल उठाई थी, वह उनका पर्सनल स्टाफ है, कोई सरकारी कर्मचारी नहीं। पंकजा ने एक न्यूज एजेंसी से कहा, ”मीडिया को ये तो दिख गया है कि मैंने चप्पल निकाली और एक आदमी उसे हाथ में उठा कर चल रहा है, लेकिन क्या मीडिया ने यह देखा कि नंगे पैर चलने के कारण मुझे क्या दिक्कत हुई। मैंने कीचड़ से सनी सड़क देख कर अपनी चप्पल निकाल दी। मुझे तो जानकारी भी नहीं थी कि स्टाफ मेरी चप्पल लेकर चल रहा है। मुझे यह बाद में पता चला। जिस स्टाफ ने मेरी चप्पल उठाई थी, वह मेरा पर्सनल स्टाफ है। सरकारी कर्मचारी नहीं है।”
कांग्रेस ने उठाए सवाल
कांग्रेस की स्पोकपर्सन अल-नसीर जाकरिया ने इस घटना पर गरीबों को लेकर पंकजा के रवैये पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा, ”उनका यह व्यवहार दिखाता है कि सरकार की मानसिकता क्या है। यह उनके एटिट्यूड को दिखाता है।”
क्यों विवादों में हैं पकंजा
महाराष्ट्र की मिनिस्टर पंकजा मुंडे का नाम पिछले महीनों चिक्की घोटाले में उछला था। आरोप है कि उन्होंने बिना टेंडर निकाले 200 करोड़ से ज्यादा का ठेका दे दिया था। सारे ऑर्डर उन्होंने एक दिन में ही पास किए थे।