कुडनकुलम परमाणु बिजली संयत्र में एक हजार मेगावाट उत्पादन शुरू

तमिलनाडु में कुडनकुलम परमाणु बिजली संयत्र में एक हजार मेगावाट क्षमता की पहली इकाई में कल आधी रात से वाणिज्यिक उत्पादन शुरू हो गया है। स्‍थल निदेशक आर एस सुन्दर ने बताया कि परमाणु ऊर्जा निगम

की अनुमति के बाद उत्पादन शुरू कर दिया गया। भारत के परमाणु ऊर्जा इतिहास में कुडनकुलम परमाणु बिजली संयंत्र की पहली यूनिट में व्‍यावसायिक उत्‍पादन शुरू होना एक यादगार लम्‍हा है। यूनिट ने इस साल जुलाई में काम करना शुरू कर दिया था। परमाणु ऊर्जा नियामन बोर्ड के विशेषज्ञों द्वारा विभिन्‍न स्‍तरों पर जांच के बाद, परमाणु बिजली निगम के निदेशक नागेश्‍वर राव ने उत्‍पादन को मंजूरी दे दी। इस यूनिट के एक हजार मेगावॉट बिजली उत्‍पादन में से आधे से ज्‍यादा तमिलनाडु को और बाकी केरल, कर्नाटक तथा पुद्दुचेरी को दी जाएगी। अब तक संयंत्र से तीन सौ 35 करोड़ यूनिट से अधिक बिजली का उत्‍पादन हो चुका है। रूस के विशेषज्ञों की मदद से संयंत्र में काम मार्च 2002 में काम करने लगा था। यहां दिसंबर 2007 से बिजली का उत्‍पादन शुरू होना था, लेकिन विभिन्‍न संगठनों के विरोध प्रदर्शन के कारण देरी हुई।