केजरीवाल अजीब शख्स, बिना समझे बोलते हैं

नई दिल्ली. दिल्ली में एयर पॉल्यूशन की स्थिति बदतर होने के बीच इस मुद्दे पर पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह औरअरविंद केजरीवाल आमने-सामने आ गए हैं। गुरुवार को कैप्टन ने कहा- “पॉल्यूशन को रोकने के लिए केजरीवाल ने कुछ भी नहीं किया। यह बहुत बड़ा मुद्दा है। पॉल्यूशन बढ़ने में सभी राज्यों का योगदान है। अरविंद केजरीवाल बहुत ही अजीब शख्स हैं। वह स्थिति को समझे बिना ही उस पर राय दे देते हैं।” बता दें कि आप सरकार ने राजधानी में छाई धुंध और पॉल्यूशन को देखते हुए 5 दिन के लिए (13 से 17 नवंबर) ऑड-ईवन स्कीम लागू करने का फैसला किया गया है।
– कैप्टन अमरिंदर सिंह ने न्यूज एजेंसी को दिए इंटरव्यू में कहा- “पंजाब में 20 मिलियन टन पराली रखी है, हम किसानों से इसे कहां स्टोर करने के लिए कहें? मिस्टर अरविंद केजरीवाल इस प्रॉब्लम को समझ ही नहीं रहे हैं।”
– “मैंने प्रधानमंत्री को तीन लेटर लिखे थे। कल भी एक लेटर लिखा है। हमने पीएम से अपील की है कि केंद्रीय मंत्रियों के साथ सभी राज्यों के सीएम के साथ एक मीटिंग करें। सिर्फ दिल्ली सीएम के साथ मीटिंग करने से कुछ समाधान नहीं होगा।”
– उन्होंने कहा कि दिल्ली में पॉल्यूशन सिर्फ एक राज्य की वजह से नहीं बढ़ रहा है। इसमें सभी राज्यों का योगदान है। इसकी शुरुआत पाकिस्तान से होती है। वहां से वेस्ट-ईस्ट हवाएं चलती हैं।
केजरीवाल ने की थी मीटिंग की अपील
– अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर और पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह को इस बारे में लेटर लिखा था। केजरीवाल ने कहा था कि दिल्ली में खराब एयर क्वालिटी के लिए आसपास के राज्यों में जलाई जाने वाली पराली भी जिम्मेदार है। इसे रोकने के लिए मीटिंग करनी चाहिए।
– उधर, गुरुवार को अमरिंदर सिह ने ट्वीट कर केजरीवाल के प्रपोजल को नकार दिया। उन्होंने कहा कि दिल्ली में एयर की क्वालिटी का खराब होना राज्यों के बीच का मामला नहीं है और इसमें केंद्र को कदम उठाने की जरूरत है।
केजरीवाल ने कहा- अगर पंजाब-हरियाणा साथ दें तो निकल सकता है समाधान
– अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को- “यदि केंद्र, पंजाब, उत्तर प्रदेश और हरियाणा सरकारें राजनीति को ताक पर रखकर इससे निपटने के लिए साथ मिलकर काम करें तो समाधान निकल सकता है।”
इस मुद्दे पर किसने क्या कहा?
– केंद्रीय पर्यावरण हर्षवर्धन ने राजधानी में पॉल्यूशन की खराब स्थिति और इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाने के लिए केजरीवाल सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा- “दिल्ली सरकार प्रदूषण के मामले में भी राजनीति कर रही है और इसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। ये सरकार जनहित के मुद्दों का राजनीति के लिये इस्तेमाल करती है और यह उनकी आदत बन चुकी है।”
दिल्ली में पॉल्यूशन लेवल ‘सीवियर प्लस’
– दिल्ली में स्मॉग और एयर पॉल्यूशन लेवल ‘सीवियर प्लस’ यानी काफी खतरनाक कैटेगरी तक पहुंच चुका है। इसे इमरजेंसी कंडीशन भी कहा जाता है। उपराज्यपाल अनिल बैजल ने बुधवार को एनवॉयरन्मेंट पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी (EPCA) के कुछ फैसलों को मंजूरी दी।
1) दिल्ली में सिविल कंस्ट्रक्शन और डिमोलिशन एक्टिविटीज (कंस्ट्रक्शन में तोड़फोड़) पर रोक।
2) जरूरी सामान ले जा रहे ट्रकों को छोड़कर बाकी ट्रकों की दिल्ली में एंट्री भी तुरंत प्रभाव से रोकी जाए।
3) मेट्रो स्टेशनों समेत सभी जगहों पर पार्किंग फीस भी चार गुना बढ़ाए जाएं।
4) मेट्रो के अलावा डीटीसी बसों की फ्रीक्वेंसी बढ़ाई जाए, ताकि लोगों को आने-जाने में परेशानी ना हो।
– उधर, केजरीवाल सरकार पहले ही रविवार तक राजधानी के सभी स्कूलों को बंद रखने का एलान कर चुकी है।