केजरीवाल ने कहा, दिल्ली में नहीं लगने देंगे राष्ट्रपति शासन

नई दिल्ली। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने गुरूवार को कहा कि वह दिल्ली में राष्ट्रपति शासन नहीं लगने देंगे। हाल ही में अरुणाचल प्रदेश और उत्तराखंड में लगे राष्ट्रपति शासन का जिक्र करते हुए सीएम ने कहा कि विपक्ष की बात रुलिंग पार्टी को सुनना चाहिए वहीं विपक्ष को भी दिल्ली की जनता के फैसला का सम्मान करना चाहिए।
पहले भी साधा है केंद्र पर निशाना
-ये पहली बार नहीं है कि राष्ट्रपति शासन के मुद्दे पर केजरीवाल ने केंद्र पर निशाना साधा है।
-इससे पहले 27 मार्च को ट्वीट करके सीएम ने कहा था, ‘विश्वास मत हासिल करने से एक दिन पहले राष्ट्रपति शासन लगा दिया? बीजेपी लोकतंत्र विरोधी है। बीजेपी/आरएसएस तानाशाही चाहते हैं; भारत पर राष्ट्रपति शासन के जरिए शासन करना चाहते हैं।’
-केजरीवाल ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा था, ‘बीजेपी जानती है कि अगले दो सालों में वह देश में कोई चुनाव नहीं जीत सकती, इसलिए अब वो गुडांगर्दी पर उतर आई है। अब वह अपनी गुंडागर्दी हिमाचल और दिल्ली में ट्राई करने की कोशिश करेंगे। दिल्ली में उनका प्लान 21 विधायकों को सस्पेंड करने और फिर 23 विधायकों को खरीदने का है।’