गुजरात का पर्यटन विकास देश के औसत से दोगुना

Tatpar 13 Jan 2014

अहमदाबाद [शत्रुघ्न शर्मा]। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने कहा है कि दुनिया का पर्यटन कारोबार करीब तीन हजार डॉलर का है। इसमें से भारत के हिस्से बहुत कम आता है। मगर गुजरात ने अपनी कोशिशों से पर्यटन विकास की दर को देश के औसत विकास से दोगुनी करने में सफलता पाई है। अंतरराष्ट्रीय पतंगोत्सव का रविवार को उद्घाटन करते हुए उन्होंने यह बात कही।

गुजरात के मुख्यमंत्री ने कहा कि पतंग उत्सव कागज के फूलों से सूर्य उपासना का पर्व है। आज से कुछ साल पहले तक प्रदेश में महज 30 से 35 करोड़ का पतंग कारोबार था। सरकार की पहल के बाद आज यह 500 करोड़ रुपये को पार कर गया है। गरीब बच्चे व घरेलू महिलाएं इस कारोबार से जुड़ी हैं। इससे उनकी आमदनी में भारी इजाफा हुआ है। यह उत्सव आनंद के साथ अर्थव्यवस्था और पर्यटन से भी जुड़ा है। इससे हर छोटा व बड़ा व्यापारी लाभ कमाता है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश ने देश की पर्यटन दर सात फीसद से दोगुना विकास 14 फीसद कर बताया है कि इसके लिए राच्यों के बीच प्रतिस्पर्धा होनी चाहिए।

इस मौके पर पर्यटन मंत्री सौरभ पटेल ने कहा कि यह राच्य सरकार की विकास के प्रति साफ नीयत के कारण सफल हुआ। गुजरात में पतंग उत्सव, रण उत्सव, शरद उत्सव, तरणेतर मेला, शाला प्रवेशोत्सव आयोजित किए जाते हैं। इससे पर्यटन विकास के साथ रोजगार भी बढ़ा है। पतंगोत्सव में 27 देश व 11 राच्यों के 138 पतंगबाज शामिल हुए हैं। वहीं कच्छ-भुज में चल रहे रणोत्सव में अब तक 85 हजार पर्यटक आए हैं। इनमें से 45 हजार पर्यटक टेंट सिटी में रहे। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने 20 जिलों में गाइड प्रशिक्षण केंद्र खोलें हैं।