छात्रों में आरजकता फैलाने की साजिश

 

 

 

 

 

 

 

प्रवीण मैशेरी,रायपुर। कोंग्रेस एवं विपक्षियों का जूठा प्रोपोगंडा NEET JEET के एग्जाम को प्रभावित करने कोरोना,बाढ़ का हवाला दे परीक्षा नहीं करवानें कर रहें हैं झूठे दुष्प्रचार छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने की हो रहीं हैं साजिश खुल गई पोल।

कोंग्रेस के IT सेल ने बाढ़ की कुछ तस्वीरे पोस्ट कर प्रश्न उठाया हालात खराब ऐसे में छात्र कैसे पहुँचेंगे सेंटर? पड़ताल करने पर पता चला जिन तस्वीरों को हालिया बताकर पोस्ट की जारही है वे सब 2016,2017,2019 की है हद तो तब हो गई जब एक NSUI के तथाकथित सदस्य ने पोस्ट डाली की मेरे पिता कोरोना पोजेटिव है पोस्ट के साथ कोरोना की रिपोर्ट भी डाली गई जांच करने पर वह फर्जी निकली रिपोर्ट जिस पंजाब फोरेंसिक साइंस एजेंसी की बताई जारही है ऐसी कोई लेब भारत में है ही नहीं यह पाकिस्तान के लाहौर में है तो सवाल यह उठता है क्या छात्र एग्जाम देनें लाहौर जाने वाले थे?

NSUI कोंग्रेस CPI CPM समाजवादी सब चाहतें हैं सरकार किसी तरह बदनाम हो व्यवस्था लड़खड़ाए छात्र गुमराह हों बेरोजगारी फैले इन सब बातों का फायदा उठाकर देश में आरकजकता फैले देश सुलगे हिंसक आंदोलन हो जिससे मोदी सरकार संकट में पड़ जावें इन सबके पीछे सोनिया राहुल का विदेशी शातिर दिमाग काम कर रहा है जो देश में विकास अमन चैन देखना नहीं चाहतें देश को शक्तिशाली होते देखना नहीं चाहतें।