जम्मू में बस पर ग्रेनेड से हमले की हिज्बुल ने ली जिम्मेदारी, आतंकी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

जम्मू के बस स्टैंड में सरकारी बस पर ग्रेनेड से हमला करने वाले आरोपी आतंकी को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. जम्मू के आईजी के मुताबिक आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन ने इसकी जिम्मेदारी ली है. पुलिस ने हमले के आरोपी आतंकी को नगरोटा चेक पोस्ट से गिरफ्तार किया है. पकड़े गए आरोपी का नाम यासिर जावेद भट्ट. पुलिस के मुताबिक आरोपी आज ही कुलगाम से जम्मू आया था और उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया है. बता दें कि इस हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी. इस बात की पुष्टि खुद जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने की है. गौरतलब है कि जम्‍मू में बस स्‍टैंड के पास सरकारी बस में आज आतंकियों ने ग्रेनेड से हमला किया था, जिसमें एक की व्यक्ति की मौत हो गई थी जबकि  33 लोग घायल हो गए. घटना करीब 12:15 बजे हुई. ब्‍लास्‍ट के बाद पूरे इलाके को खाली करा लिया गया. पुलिस मामले की जांच कर रही है. अभी किसी संगठन ने इस हमले की जिम्‍मेदारी नहीं ली है.

हमले में घायलों को जम्‍मू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है. ब्‍लास्‍ट के बाद इलाके में अफरातफरी मच गई. पुलिस ने एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया है. वह दक्षिण कश्‍मीर का रहने वाला है.  14 फरवरी को पुलवामा हमले के बाद जम्‍मू में अलर्ट के बाद भी यह सबसे बड़ी घटना है. जम्‍मू मेडिकल काॅलेज के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट ने एक घायल की मौत की पुष्‍टि की है.

जम्‍मू के आईजीपी (Inspector General of Police) एमके सिन्‍हा ने बताया, बस स्‍टैंड में बस पर ग्रेनेड हमला किया गया, जिसमें करीब 28 लोग घायल हो गए. जिस बस में ब्‍लास्‍ट हुआ है, वह राज्‍य परिवहन सेवा की बस है.

हमले में मृत युवक का नाम मोहम्‍मद शारिक (17 साल) था, जो उत्‍तराखंड का रहने वाला था. माना जा रहा है कि हमले को दो से तीन लोगों ने अंजाम दिया है. हमले काे लेकर करीब 12 लोग हिरासत में लिए गए हैं. इनलोगों से पूछताछ की जा रही है.

धमाके के समय बस जम्‍मू बस स्‍टैंड पर ही खड़ी थी. जिस बस में ब्‍लास्‍ट हुआ है, वह राज्‍य परिवहन सेवा की बस है. धमाके के समय बस जम्‍मू बस स्‍टैंड पर ही खड़ी थी.

क्‍या था पुलवामा हमला

14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में अब तक के सबसे बड़े आतंकी हमले में जैश के एक आत्मघाती हमलावर ने पुलवामा जिले में श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर अपनी विस्फोटकों से लदी एसयूवी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की बस से टकराकर विस्फोट कर दिया था. इस हमले में CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे.

मोदी सरकार में सुरक्षाबलों पर हमले

  • 18 सितंबर 2016 : उरी के सैन्य कैंप पर हमले में 20 जवान शहीद
  • 29 नवंबर 2016: नगरोटा में सेना की 16वीं कोर पर हमले में सेना के 7 जवान शहीद
  • 26 अगस्त 2017: पुलवामा में हुए हमले में 8 सुरक्षाबल शहीद
  • 10-11 फरवरी 2018 जम्मू जिले के सुंजवान सैन्य कैंप पर आतंकियों के हमले में 6 जवान शहीद
  • 14 फरवरी 2019 अवंतिपोरा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए हमले में 30 जवान शहीद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *