जेटली बोले- राहुल गांधी को अब तक जितना सुना हैरान हूं, वह कब जानेंगे

नई दिल्ली. लोकसभा में पीएम पर निशाना साधने वाले राहुल गांधी के खिलाफ सरकार के सीनियर्स मिनिस्टर ने हमला बोला है। अरुण जेटली, राजनाथ सिंह और सुषमा स्वराज ने कांग्रेस वाइस प्रेसिडेंट पर पलटवार किया। जेटली ने ब्लॉग में कहा, ”जब कोई युवावस्था से अधेड़ उम्र की ओर बढ़ता है तो हम निश्चित रूप से एक परिपक्वता के स्तर की अपेक्षा रखते हैं। जितना मैं राहुल गांधी को सुनता हूं, उतना ही हैरान होने लगता हूं कि वह कितना जानते हैं और वह कब जानेंगे।” गुरुवार को पीएम संसद में बयान देंगे। राहुल ने नरेंद्र मोदी पर अकेले फैसले लेने का आरोप लगाया था।
राहुल बोले- काला धन छिपाने के लिए मोदीजी लाए ‘फेयर एंड लवली’ स्कीम…
 – प्रेसिडेंट की स्पीच पर चर्चा के दौरान राहुल ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा था।
– कहा, ”मोदी सरकार ने काला धन से लड़ने की बात की थी। लेकिन काला धन छिपाने के लिए इसे फेयर एंड लवली योजना बना दिया। जेटलीजी के पास जाइए, काला धन गोरा बना लीजिए।”
राहुल ने क्यों कहा- मैं गलतियां करता हूं…
‘राहुल कितना जानते हैं और कब जानेंगे’
राहुल गांधी ने दावा किया था कि पाकिस्तान की नीति पर सुषमा से सलाह नहीं ली जाती, राजनाथ सिंह को नगा शांति समझौते की जानकारी नहीं थी और जेटली को बजट प्रस्तावों का पता नहीं था। राहुल के बयान पर चुटकी लेते हुए जेटली ने कहा, ”
 – राहुल ने कहा, ” मैं गलतियां करता हूं। मैं सब कुछ जानता नहीं, समझता नहीं हूं। पहले मैं लोगों के बीच जाता हूं। उनकी बात सुनता हूं। फिर इस हाउस में बोलता हूं।”
– दरअसल, राहुल ने क्रूड ऑयल की कीमत को लेकर गलत आंकड़े बोले थे, जिस पर बीजेपी के सांसदों ने उनका मजाक उड़ाया।
– राहुल की स्पीच के बाद कर्नाटक से बीजेपी के सांसद प्रह्लाद जोशी ने कहा, ”आपके (कांग्रेस-राहुल) के साथ दिक्कत है कि आप लोग गलती करते हैं। मानते भी हैं। लेकिन सुधरते नहीं।”
– ”इस देश को दस साल तक लूटने वाले करप्शन की बात करते हैं। जबकि कांग्रेस करप्शन की जनक है।”
मोदी-जेटली के बारे में राहुल ने क्या कहा?
 – राहुल ने कहा- ”मोदीजी की फेयर एंड लवली योजना आई है। काले धन को आप गोरा कर सकते हो। 2014 में मोदीजी ने कहा था कि मैं कालेधन को खत्म कर दूंगा। मैं कालेधन की लड़ाई जीतूंगा।”
– ”लेकिन मोदीजी की फेयरएंड लवली योजना में किसी को जेल नहीं होगी। कोई अरेस्ट नहीं होगा। जेटलीजी के पास जाइए। टैक्स दीजिए और जेल मत जाइए।”
बजट के किस प्रपोजल का जिक्र कर रहे थे राहुल?
 – जेटली ने बजट स्पीच में कहा था, ‘टैक्स से बचाकर रखी गई इनकम काे आप डिक्लेयर कर सकेंगे। 1 जून से 30 सितंबर 2016 के बीच कम्प्लायंस विंडो खुलेगी। अपनी इनकम के डिक्लेरेशन के दो महीने के अंदर पेमेंट करना होगा। आप जो भी इनकम डिक्लेयर करेंगे उस पर इनकम टैक्स या वेल्थ टैक्स के तहत कोई जांच या केस नहीं होगा।’
– राहुल इसी का जिक्र कर रहे थे। कांग्रेस का कहना है कि यह बजट प्रपोजल ब्लैकमनी रखने वालों को बचाने के लिए है।
राहुल ने कहा- मोदी जी पावरफुल हैं, डर लगता है
 – अपनी स्पीच के दौरान राहुल ने कहा, ”मोदीजी खड़े होते हैं। कहते हैं- मनरेगा बेकार योजना है। ऐसी योजना कभी नहीं देखी, इसलिए नहीं हटाउंगा कि पूरे देश को मालूम होना चाहिए कि कांग्रेस ने क्या गलतियां कीं।”
– ”जब मनरेगा के लिए (जेटली की बजट स्पीच में) धन आवंटित हुआ तो मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं और ऐसा लगा कि चिदंबरम बजट पेश कर रहे हैं।”
– ”फिर जेटली मेरे पास आते हैं। कहते हैं- इससे अच्छी स्कीम नहीं है। मैंने कहा- अपने बॉस से क्यों नहीं कहते, प्रधानमंत्री से क्यों नहीं कहते? इस पर जेटली चुप हो गए।”
– ”मोदीजी बड़े पावरफुल आदमी हैं, डर लगता है। पर आप लोगों को थोड़ा बोलना चाहिए।”
राहुल का सवाल- मुंबई हमलों के वक्त वहां क्यों गए मोदी?
 – राहुल ने कहा- ”पाकिस्तान ने 26/11 पर मुंबई पर सीधा हमला किया। 200 लोगों की मौत हुई। आतंकियों को रोकने का ऑपरेशन जारी था। हमारे जवान और लोग मारे जा रहे थे।”
– ”हमारी केंद्र की सरकार ने गुजरात के सीएम (मोदी) से गुजारिश की कि मुंबई ना जाएं। लेकिन तब गुजरात के सीएम ने मुंबई जाने का फैसला किया। उन्होंने परवाह नहीं की।”
– ”वे ओबेरॉय होटल गए, ऑपरेशन को प्रभावित किया और हेडलाइंस बन गए।”
– ”चलिए। इसे भी भूल जाइए। यूपीए सरकार ने भी काम किया। हमने डिप्लोमेसी के हजारों घंटे लगाए। पाकिस्तान को पराया मुल्क बना दिया। हमने उन्हें चारों तरफ से पाकिस्तान पर दबाव बनाया।”
– ”हमने दुनिया को इस बात के लिए राजी किया कि पाकिस्तान आतंकवाद को बढ़ावा देता है।”
– ”हमारे पीएम ने सभी की सलाह ली थी। लेकिन मौजूदा पीएम ने नवाज शरीफ के साथ चाय पीने की ठान ली। वे चाय पे चर्चा कर रहे थे। बिना किसी विजन के वे पाकिस्तान दौरे पर चले गए।”
– ”6 साल की हमारी मेहनत पर प्रधानमंत्री ने पानी फेर दिया। हमने पाकिस्तान को एक पिंजरे में कैद कर दिया था। लेकिन उन्होंने उसे बाहर कर दिया। वे पाकिस्तान चले गए। उन्होंने हमारे झंडे का अपमान किया। उन्होंने पठानकोट के शहीदों का अपमान किया।”
”देश का मतलब पीएम नहीं”
 – ”जब मैं फ्लैग को सलाम करता हूं, तब मैं कपड़े को सलाम नहीं करता हूं। जब मैं झंडे का सम्मान करता हूं तो मैं हर आवाज का सम्मान करता हूं, मैं उन आवाजों के लिए खड़ा होता हूं जो कमजोर हैं।”
– ”देश का मतलब प्रधानमंत्री नहीं है और सिर्फ प्रधानमंत्री देश नहीं हैं।”
– ”आपमें (सरकार) और हम लोगों में फर्क यह है कि आप लोग सब जानते हैं और हम कुछ नहीं जानते, बल्कि सीखते हैं।”
मनरेगा को कहा- नरेगा
 – कांग्रेस वाइस प्रेसिडेंट ने कहा, ”नरेगा जैसी योजना मैंने पहले नहीं देखी।”
– इस पर बीजेपी सांसदों ने टोका- नरेगा नहीं, मनरेगा।
– वित्त राज्य मंत्री जयंत सिन्हा मुस्कुराते नजर आए।
जेएनयू पर राहुल ने क्या कहा?
 – ”कौन सी किताब में लिखा है कि कोर्ट में जेएनयू के स्टूडेंट्स-टीचर्स और मीडिया को पीटा जाना चाहिए?”
– ”मैं सवाल पूछना चाहता हूं प्रधानमंत्रीजी से कि जब टीचर्स, स्टूडेंट्स और मीडिया को पीटा गया तो आपने एक शब्द भी क्यों नहीं कहा?”
– ”कन्हैया, रोहित वेमुला जैसे स्टूडेंट्स की आवाज दबाने की कोशिश हो रही है।”
राजनाथ पर भी निशाना
– राहुल ने कहा- नगालैंड के उग्रवादियों के साथ शांति समझौते के बारे में क्या गृह मंत्री (राजनाथ सिंह) जानते थे कि पीएम ऐसा कुछ कर रहे हैं? और इसके बाद उस समझौते का क्या हुआ? वो समझौता हवा में उड़ गया? इस समझौते पर पीएम ने आर्म्ड फोर्सेस या डिप्लोमेट्स से नहीं पूछा। सुषमाजी से भी नहीं पूछा। खुद ही फैसला कर लिया।
PAK से दोस्ती पर कांग्रेस नेता ने कहा- आप खाएं तो माखनचोर, हम खाएं तो हराम***…
 – उधर, राज्यसभा में चर्चा के दौरान सदन में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने मोदी के पाकिस्तान दौरे पर सवाल उठाए।
– कहा, ”बड़ा याराना लगता है पाकिस्तान से। जब हम सत्ता में थे, पाकिस्तान के साथ बात करते थे तो हम बुरे हो जाते थे। आप खाएं तो माखनचोर, हम खाएं तो हराम***।”
– इस शब्द का बीजेपी सांसदों ने विरोध किया।
चिदंबरम के बेटे की कमाई पर संसद में एआईडीएमके सांसदों का हंगामा…
 – इससे पहले बुधवार को संसद की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम के बेटे की प्रॉपर्टी को लेकर एआईडीएमके सांसदों ने आवाज उठाई।
– इसके बाद एयरसेल-मैक्सेस डील पर अरुण जेटली ने भी सफाई दी।
– राज्यसभा में कार्ति चिदंबरम की संपत्ति को लेकर विवाद हुआ।
– वहीं, इशरत जहां एनकाउंटर मामले में उस वक्त होम मिनिस्ट्री में अंडर सेक्रेटरी रहे आरवीएस मणि के खुलासे के बाद लोकसभा में यह मुद्दा उठा।
बुधवार को संसद में क्या हुआ? अपडेट्स…
 1.केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि हम कार्ति चिदंबरम मामले में बहस को तैयार हैं। एआईएडीमके को नोटिस देना चाहिए।
2.एआईएडीमके के सांसद कार्ति चिदंबरम पर जांच करने की मांग कर रहे हैं।
3.#IshratJahan के इश्यू पर बीजेपी एमपी ओम बिड़ला ने लोकसभा में नोटिस दिया है।
4.नितिन गडकरी ने कहा कि इशरत जहां केस में जांच होनी चाहिए।
5.एयरसेल-मैक्सिस डील में पी. चिदंबरम के रोल पर AIADMK ने लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव दिया है।
6.इसके पहले, सोनिया गांधी ने पार्टी के सीनियर लीडर के साथ एक मीटिंग की। इसमें लोकसभा में कांग्रेस की स्ट्रैटेजी कैसी रहेगी? इस पर चर्चा हुई।
7.एयरसेल मैक्सिस डील पर जेटली ने कहा- जो दोषी होंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। अभी जांच चल रही है, इसलिए कुछ भी कहना सही नहीं होगा।
कार्ति किस मामले में फंसे हैं?
 – यूपीए सरकार में फाइनेंस मिनिस्टर रहे पी चिदंबरम के बेटे कार्ति पर एयरसेल-मैक्सिस डील में गलत ढंग से पैसा कमाने का आरोप है।
– इस सिलसिले में ईडी पहले ही कार्ति और उनके दोस्तों की कंपनी पर रेड कर चुका है।