जोधपुरः आसाराम को नहीं मिली राहत, स्वामी का ट्वीट- जुलाई में बेल निश्चित

जोधपुर. नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीड़न के आरोप में डेढ़ साल से जोधपुर जेल में बंद आसाराम को शनिवार को भी बेल नहीं मिली। जोधपुर जिला एवं सेशन कोर्ट (जोधपुर जिला) ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी है। आसाराम की जमानत याचिका पर पैरवी के लिए बीजेपी नेता और वरिष्ठ वकील डॉ. सुब्रमण्यम स्वामी खुद जोधपुर आए थे, लेकिन वह भी आसाराम को बेल नहीं दिला पाए। इसके बाद स्वामी ने ट्वीट कर कहा, ”छठे गवाह को 29 जून तक एक और चांस दिया जाना चाहिए। यदि ऐसा होता है तो जुलाई में बेल निश्चित है।” बता दें कि आसाराम को बेल न मिलने पर समर्थकों ने शनिवार को अदालत परिसर के बाहर काफी हंगामा किया, लेकिन पुलिस ने उनको खदेड़ दिया गया।

सातवीं बार खारिज हुई जमानत याचिका

डेढ़ साल से जोधपुर जेल में बंद आसाराम की जमानत याचिका विभिन्न न्यायालयों में सातवीं बार खारिज हुई है। जिला एवं सेशन कोर्ट ने चौथी बार उनकी जमानत याचिका खारिज की है। दो बार उनकी जमानत याचिका राजस्थान हाईकोर्ट तथा एक बार सुप्रीम कोर्ट में खारिज हो चुकी है।

शुक्रवार को सुरक्षित रखा था फैसला

आसाराम की जमानत याचिका पर स्वामी ने शुक्रवार को उनकी तरफ से बहस की थी। इसके बाद जज ने फैसला शनिवार तक के लिए सुरक्षित रख लिया था। शनिवार दोपहर जज मनोज कुमार व्यास ने कहा कि आसाराम को जमानत दिए जाने का कोई कारण नहीं है। जमानत के लिए जरूरी है कि आसाराम पहले स्वयं को निर्दोष साबित करें। उन्होंने कहा कि अभी तक सभी गवाहों के बयान भी पूरे नहीं हो पाए है। इसके बाद ही उन्हें जमानत दी जा सकती है।

जमानत मिलने की जताई थी उम्मीद

शनिवार को कोर्ट में प्रवेश करने के दौरान आसाराम ने कहा कि मुझे आज जमानत मिलने की पूरी उम्मीद है। आसाराम ने कहा कि विदेशी ताकतें हिन्दू संस्कृति को समाप्त करने की साजिश रच रही हैं। ये ताकतें पहले रोम, यूनान व मिस्र की सभ्यता व संस्कृति को समाप्त कर चुकी है। अब हिन्दू संस्कृति की बारी है।

समर्थकों को खदेड़ा

कोर्ट परिसर के बाहर आज बड़ी संख्या में आसाराम के समर्थक बैठे थे। सुबह आसाराम को कोर्ट लाए जाने के दौरान समर्थकों ने उनके वाहन के साथ कोर्ट में प्रवेश करने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें वहां से खदेड़ दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *