टीम ट्रम्प ने PAK के दावों को किया खारिज, कहा- शरीफ से बातचीत इतनी मसालेदार नहीं

न्यूयॉर्क/लाहौर. दुनियाभर के सामने पाकिस्तान की पोल एक बार फिर खुल गई है। अमेरिका के इलेक्ट प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प का नाम लेकर फैलाया गया झूठ पकड़ लिया गया गया। दरअसल, नवाज शरीफ ने बधाई देने के लिए डोनाल्ड ट्रम्प को फोन किया था। इस पर पाकिस्तान के पीएम ऑफिस से जारी बयान में कहा गया कि ट्रम्प ने शरीफ को गजब का शख्स बताया है। साथ ही, वादा किया कि वो पाकिस्तान की हर दिक्कत दूर करना चाहते हैं। ट्रम्प की टीम ने इस दावे की हवा निकाल दी। कहा- जैसा बताया जा रहा है, वैसी कोई बातचीत नहीं हुई। अमेरिका मीडिया ने कहा- यह प्रोटोकॉल का उल्लंघन…
– ट्रम्प-शरीफ की बातचीत पर पाकिस्तान की ओर से किए गए दावों को अमेरिकी मीडिया ने प्रोटोकॉल का उल्लंघन बताया है।
– अमेरिकी चैनल CNN ने कहा, “दो वर्ल्ड लीडर्स के बीच हुई बातचीत को बेहद सावधानी से सार्वजनिक किया जाता है, ताकि किसी तरह का नुकसान नहीं हो।”
– “PAK मीडिया ने जिस तरह से ट्रम्प का नाम लेते हुए बातचीत का ब्योरा जारी किया, वह डिप्लोमैटिक प्रोटोकॉल का वॉयलेशन है।”
– CNN के पॉलिटिकल एनालिस्ट डेविड गेरन ने कहा, “जिस तरह ट्रम्प शरीफ की तारीफ करते दिखे, वैसा कोई प्रेसिडेंट नहीं करता है।”
– “जो बातें पाक मीडिया ने लिखी हैं, कोई प्रेसिडेंट खुद ही वैसा करने की पेशकश नहीं करता है।”
– बता दें कि डेरन चार अमेरिकी प्रेसिडेंट के एडवाइजर के रूप में काम कर चुके हैं।
भारत ने कहा- पाक की सबसे बड़ी समस्या आतंकवाद
– भारतीय विदेश मंत्रालय के स्पोक्सपर्सन विकास स्वरूप ने कहा, “हमने ट्रम्प-नवाज के बीच बातचीत की रिपोर्ट्स देखी हैं। ये एकतरफा हैं। ये दावा किया जा रहा है कि ट्रम्प ने पाकिस्तान की सभी बड़ी समस्याओं को दूर करने का वादा किया है।”
– बातचीत के दावे और नवाज की तारीफ को तवज्जो ना देते हुए विकास स्वरूप ने कहा कि हमने अभी केवल बातचीत का एक पहलू देखा है।
– उन्होंने कहा, “पाकिस्तान की सबसे बड़ी समस्या टेररिज्म है और इसे ध्यान में रखते हुए हम पाक और अमेरिका के बीच बातचीत का स्वागत करते हैं, ताकि ये प्रॉब्लम खत्म हो।”
ट्रम्प ने पहले कहा था- पाकिस्तान को सबक सिखाऊंगा
– डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने पूरे चुनावी दौरे में जहां मौका मिला, वहीं कहा था कि पाकिस्तान भरोसेमंद देश नहीं है।
– 17 जनवरी 2012 को तो उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा था, “इसे सीधा समझ लें, पाकिस्तान हमारा दोस्त नहीं है। हमने उसे अरबों डॉलर दिए और हमें क्या मिला? विश्वासघात और अपमान, उससे भी बुरा।”
– “अब समय आ गया है जब हम उससे सख्ती से निपटें। भारत के साथ मिलकर उसे सबक सिखाऊंगा।”
ट्रम्प-शरीफ बातचीत पर पाकिस्तान का यह था दावा
– PAK प्रेस इन्फॉर्मेशन डिपार्टमेंट के मुताबिक, ट्रम्प ने शरीफ से कहा, “उन्हें लगा कि किसी ऐसे शख्स से बात कर रहे हैं, जिसे काफी वक्त से जानते हैं।”
– ट्रम्प ने कहा, “पाकिस्तान जबरदस्त संभावनाओं वाला एक गजब का देश है। पाकिस्तानी दुनिया के सबसे इंटेलिजेंट लोगों में शामिल हैं।”
– शरीफ ने ट्रम्प को पाकिस्तान आने का न्योता भी दिया। इस पर ट्रम्प ने कहा, “वे एक शानदार देश, शानदार लोगों वाली जगह आना पसंद करेंगे।”
– ट्रम्प ने यह भी कहा, “अपनी परेशानियों का हल तलाशने में आप मुझसे जैसा भी किरदार निभाने की उम्मीद करते हैं, उसके लिए मैं तैयार हूं। यह मेरे लिए सम्मान की बात होगी।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *