टैक्स डॉक्युमेंट्स लीक: पुतिन-नवाज की छिपी दौलत का खुलासा, कितने भारतीय शामिल

पेरिस.टैक्स हैवन देश में शामिल पनामा की एक कंपनी मोसेक फोंसेका के एक करोड़ से ज्यादा टैक्स डॉक्युमेंट्स लीक हो गए हैं। इनसे खुलासा हुआ है कि व्लादिमीर पुतिन और नवाज शरीफ के अलावा दुनिया के करीब 140 बड़े नेता ऐसे हैं जिन्होंने अपनी बड़ी दौलत टैक्स हैवन देश में जमा की है। इन डॉक्युमेंट्स की जांच 100 से ज्यादा मीडिया हाउस ने की। बताया जाता है कि करीब 500 भारतीयों या कंपनियों के नाम लीक हुई लिस्ट में हैं।
दुनिया की अब तक की सबसे बड़ी टैक्स लीक….
 – जर्मन डेली ड्यूश्चे जेईटंग ने अपने एक सोर्स के जरिए ये डॉक्युमेंट्स हासिल किए हैं। इसकी जांच इंटरनेशनल कर्न्सोटियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे) नाम के ऑर्गनाइजेशन ने की है।
– जानकारी के मुताबिक 2 लाख 14 हजार अकाउंट्स का इन डॉक्युमेंट्स में जिक्र है जो करीब 40 साल से पनामा के बैंकों में हैं। मोसाक फोंसेका के दफ्तर 35 से ज्यादा देशों में हैं।

पुतिन के नाम का जिक्र नहीं

 – जांच करने वाले ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक, पुतिन का नाम इस लिस्ट में नहीं है लेकिन उनके बेहद करीबियों ने फर्जी कंपनियों के जरिए करीब 2 बिलियन डॉलर का टैक्स बचाया।
– पुतिन के एक कारोबारी दोस्त का नाम इस लिस्ट में है। पुतिन के बेटी के गॉडफादर कहे जाने वाले एक शख्स भी लिस्ट में शुमार हैं।
– 12 नेता इस लिस्ट में ऐसे हैं जो या तो किसी देश के चीफ हैं या रह चुके हैं। इनमें आइसलैंड और पाकिस्तान के प्राइम मिनिस्टर शामिल हैं।
– नवाज शरीफ के बेटों हुसैन और हसन के अलावा बेटी मरियन सफदर ने टैक्स हेवेन माने जाने वाले ब्रिटिश वर्जिन आईलैंड में कम से कम चार कंपनियां शुरू कीं। इन कंपनियों से इन्होंने लंदन में छह बड़ी प्रॉपर्टीज खरीदीं।
– शरीफ फैमिली ने इन प्रॉपर्टीज को गिरवी रखकर डॉएचे बैंक से करीब 70 करोड़ रुपए का लोन लिया। इसके अलावा, दूसरे दो अपार्टमेंट खरीदने में बैंक ऑफ स्कॉटलैंड ने मदद की।
– यूक्रेन के प्रेसिडेंट और सऊदी अरब के किंग का नाम भी इस लिस्ट में है। हॉलीवुड स्टार जैकी चैन भी इसी लिस्ट का हिस्सा हैं।
शी जिनपिंग पर भी शक
 – एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और उनकी फैमिली का भी पनामा के बैंक से कुछ लिंक है। कहा जा रहा है कि फाइनेंशियल क्राइसिस के दौरान आइसलैंड के पीएम ने करोड़ों रुपए के बैंक बॉन्ड्स खरीदे थे।
– शी जिनपिंग ने चीन में रिश्वतखोरी के खिलाफ मुहिम चलाई थी लेकिन कम्युनिस्ट पार्टी के काडर्स के लोगों के पास बेहिसाब दौलत बताई जाती है।
– मिस्र के पूर्व तानाशाह होस्नी मुबारक, लीबिया के पूर्व तानाशाह मुअम्मर गद्दाफी और सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद की फैमिली का जिक्र भी इन डाक्यूमेंट्स में है।
फीफा भी घेरे में
 – पिछले दिनों करप्शन को लेकर सबसे बड़ी फुटबॉल बॉडी फीफा सुर्खियों में थी। इस लीक में फीफा के मेंबर जुआन पेड्रो डेमियानी का नाम भी है। कहा गया है कि उनके तीन ऐसे लोगों से बिजनेस रिलेशन हैं जिनका नाम लीक हुई लिस्ट में है।
– फीफा के ही मिशेल प्लातिनी भी इस लिस्ट में हैं। स्टार फुटबॉलर लियोनल मैसी और उनके पिता का नाम भी संदिग्धों की सूची में है। हालांकि स्पेनिश एजेंसियों की जांच में इसका खुलासा अब तक नहीं हुआ है।
क्या कहा फर्म ने?
 – लीक हुए डॉक्युमेंट्स के बाद मोसाक फोंसेका ने कहा कि यह क्राइम है और इसे हम अपने देश पनामा पर हमला मानते हैं।
– कंपनी के मुताबिक, कुछ देशों को हमारी कामयाबी पसंद नहीं आ रही है।
– वहीं, पनामा सरकार ने कहा है कि वह संदिग्ध डील्स को लेकर जीरो टॉलरेन्स की पॉलिसी पर चलती है और अगर कोई देश कानूनी तौर पर जांच करेगा तो वह उसकी मदद करेगी।
– लीक हुए डॉक्युमेंट्स 1975 से पिछले साल यानी 2915 तक के हैं।