तेलंगाना और मध्‍यप्रदेश में स्‍वाइन फ्लू के मामलों में वृद्धि

तेलंगाना और मध्‍य प्रदेश में स्‍वाइन फ्लू के मामले बढ़ते जा रहे हैं। हैदराबाद में तीन डॉक्‍टरों सहित 50 से अधिक लोगों का इलाज चल रहा है। विशेषज्ञों का एक दल हैदराबाद के सरकारी अस्‍पतालों का दौरा कर रहा है

इनमें संक्रमण विशेषज्ञ, डॉक्‍टर और अनुसंधानकर्ता शामिल हैं, जो स्थिति का आकलन करने के साथ ही स्‍वाइन फ्लू के मरीजों के इलाज के बारे में जानकारी ले रहे हैं। विशेषज्ञों का दल आज दोपहर बाद मुख्‍यमंत्री चन्‍द्रशेखर राव के साथ स्थिति की समीक्षा करेगा। राज्‍य सरकार ने चिकित्‍सा और स्‍वास्‍थ्‍य निदेशक सम्‍बाशिव राव को उनके पद से हटा दिया है और परिवार कल्‍याण आयुक्‍त ज्‍योति बुद्ध प्रकाश को इस पद की अतिरिक्‍त जिम्‍मेदारी सौंपी गई है। मध्‍य प्रदेश सरकार ने स्‍वाईल फ्लू पर राज्‍य में अलर्ट जारी किया है। इन्‍दौर और भोपाल में सरकारी तौर पर स्‍वाइन फ्लू के तेरह मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इन मरीजों का विभिन्‍न अस्‍पतालों में इलाज चल रहा है। प्रदेश के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री नरोत्‍तम मिश्रा ने कहा है कि राज्‍य में स्‍वाइन फ्लू से कोई मौत नहीं हुई है। कुछ निजी अस्‍पतालों में स्‍वाइन फ्लू से संबंधित मौतों की मीडिया में आई खबरों के बाद स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने एक आदेश जारी कर निजी अस्‍पतालों द्वारा किसी भी मौत की जानकारी मीडिया को दिये जाने पर रोक लगा दी है। उसने कहा है कि अफवाहें फैलाने पर संबंधित अस्‍पताल का लाइसेंस रद्द करने की कार्रवाई की जायेगी। उसने आदेश दिया है कि निजी अस्‍पताल हर रोज स्‍वाइन फ्लू के मामले केस शीट के साथ निरीक्षण के लिए मेडिकल कॉलेज के डीन की अध्‍यक्षता वाली भारतीय समिति के समक्ष रखें।