नरेंद्र मोदी ही चीन के सामने खड़े होने वाले दुनिया के अकेले नेता

नई दिल्ली. चीन को लेकर भारत की स्ट्रैटेजी और फैसलों की तारीफ अब दुनियाभर के थिंक टैंक भी कर रहे हैं। चीनी मामलों के अमेरिकी जानकार माइकल पिल्सबरी ने कहा- मोदी दुनिया के एकमात्र ऐसे नेता हैं, जो चीन की वन बेल्ट वन रोड (ओबीओआर) प्रोजेक्ट के खिलाफ खड़े हुए। जबकि अमेरिका ने भी इस मसले पर लगातार चुप्पी साधे रखी है। अमेरिकी संसद में सुनवाई के दौरान पिल्सबरी ने सांसदों से कहा कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के महत्वाकांक्षी ओबीओआर प्रोजेक्ट के खिलाफ मोदी और उनकी टीम ने हमेशा अपनी बात रखी है। इसकी वजह यह भी है कि इससे भारतीय संप्रभुता के दावों का उल्लंघन होता है।

– माइकल पिल्सबरी ने कहा- “ओबीओआर प्रोजेक्ट पांच साल पुराना प्रोजेक्ट है और अमेरिकी सरकार अभी तक इस पर खामोश रही है। चीन, पाकिस्तान और कई देशों के साथ मिलकर ओबीओआर प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है। इस प्रोजेक्ट के तहत पाक अधिकृत कश्मीर, गिलगित बालटिस्तान के कुछ इलाकों को शामिल करने को लेकर भारत विरोध कर रहा है।

– चीन दावा करता है कि इस प्रोजेक्ट से दुनिया के बड़े हिस्सों को आर्थिक गलियारे में जोड़ा जा सकेगा।

अमेरिकी कांग्रेस ने पास किया 45.50 लाख करोड़ रुपए का रक्षा बजट

– अमेरिकी संसद ने देश का 45.50 लाख करोड़ रुपए (700 अरब डॉलर) का एनुअल डिफेंस बजट पास कर दिया। 2018 के इस डिफेंस बजट में 2017 की तुलना में 15 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है।

– इसमें पाकिस्तान को रक्षा सहायता देने पर कड़ी शर्तों का प्रावधान किया गया है, जबकि भारत के साथ रक्षा सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया गया है।

– रक्षा बजट 2018 नेशनल डिफेंस ऑथराइजेशन एक्ट (एनडीएए) के प्रपोजल में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की नई साउथ एशिया पॉलिसी की वजह से आखिरी वक्त में कई बदलाव किए गए।

रक्षा साझेदारी भारत से मजबूत होगी
– डिफेंस बजट प्रपोजल में कहा गया है कि अमेरिका के विदेश मंत्री और रक्षा मंत्री भारत को बड़े रणनीतिक साझीदार की भूमिका में देखें।

– रिपब्लिकन सांसद टेड क्रूज ने कहा कि 21वीं सदी अमेरिका और भारत के सहयोग को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी। क्रूज ने भारत की भूमिका को खास बनाने के लिए एक संशोधन भी पेश किया, जिसे मंजूर किया गया।

पाकिस्तान पर लगाईं सख्त शर्तेंं
– अमेरिकी डिफेंस बजट प्रपोजल में पाकिस्तान के लिए 2277 करोड़ रुपए (35 करोड़ डॉलर) की रक्षा मदद की बात कही गई है। इसे आतंकियों के खिलाफ पाकिस्तान की कार्रवाई के साथ जोड़ा गया है। पाकिस्तान में एक्टिव आतंकी गुटों हक्कानी नेटवर्क और लश्कर-ए-तैयबा पर नजर रखने को भी कहा गया है।

चीनी मामलों के अमेरिकी जानकार माइकल पिल्सबरी ने चीन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रुख की तारीफ की है। उन्होंने शुक्रवार को कहा है कि मोदी दुनिया के एकमात्र ऐसे नेता हैं जो चीन की वन बेल्ट वन रोड (ओबीओआर) परियोजना के खिलाफ खड़े हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *