नरोत्तम सुप्रीम कोर्ट पहुंचे, शिवराज ने कानून मंत्री से ली राय

भोपाल.पेड न्यूज मामले में अयोग्य ठहराए गए मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दिल्ली हाईकोर्ट की डबल बेंच से राहत नहीं मिलने के बाद सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी है। इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद से मुलाकात कर इस मामले में राय ली है। मुख्यमंत्री सोमवार शाम संसदीय बोर्ड की बैठक में शामिल होने दिल्ली पहुंचे थे। बैठक के बाद उन्होंने रविशंकर प्रसाद से मुलाकात की।
इससे पहले दिल्ली में नरोत्तम ने मुख्यमंत्री से मुलाकात कर पूरे मामले पर चर्चा की। दिल्ली सूत्रों के अनुसार नरोत्तम की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को सुनवाई कर सकता है। यदि यहां भी फैसला पक्ष में नहीं आया तो उन्हें इस्तीफा देना पड़ सकता है। इस संबंध में नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट मे याचिका दायर कर दी गई है। चूंकि मामला न्यायालय में विचाराधीन है। इसलिए वे विधानसभा की कार्रवाई में हिस्सा नहीं ले रहे हैं। इधर,विधानसभा में मिश्रा के विभागों से संबंधित प्रश्नों के उत्तर देने की जिम्मेदारी अलग-अलग मंत्रियों को सौंपने की तैयारी कर ली गई है, जिनमें जल संसाधन विभाग के प्रश्नों का उत्तर जयंत मलैया, संसदीय कार्य विभाग की जिम्मेदारी उमाशंकर गुप्ता और जनसंपर्क विभाग की जिम्मेदारी राजेंद्र शुक्ला या रामपाल सिंह में से एक को सौंपी जा सकती है। मुख्यमंत्री ने दिल्ली रवाना होने से पहले पत्रकारों से अनौपचारिक चर्चा के दौरान संकेत दिया था कि वे संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद नरोत्तम मिश्रा के मामले को लेकर केंद्रीय मंत्रियों से चर्चा करेंगे।
विजयवर्गीय बोले- नरोत्तम के बिना सूना लगेगा सदन
भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं विधायक कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि नरोत्तम मिश्रा के बिना सदन सूना लगेगा। राष्ट्रपति चुनाव में मतदान के बाद उन्होंने मीडिया से कहा कि यदि नरोत्तम राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा लेते तो मुझे अच्छा लगता। मिश्रा के मंत्री पद से इस्तीफे के सवाल पर विजयवर्गीय ने कहा कि यह सरकार का अधिकार है कि वह किसे मंत्री बनाए।
पांच मुद्दों पर छह मंत्री देर रात तक बनाते रहे रणनीति
मंदसौर गोली कांड, किसानों की आत्महत्या और नरोत्तम मिश्रा के अयोग्य घोषित होने सहित पांच मुद्दों पर छह मंत्री देर रात तक रणनीति बनाते रहे। कांग्रेस ने इन मुद्दों पर छह स्थगन प्रस्ताव विधानसभा में लगाए हैं। जिसको ग्राह करने को लेकर मंगलवार को सदन मे चर्चा होगी। ऐसे में विपक्षी दल कांग्रेस के सवालों का जवाब देने के लिए देर शाम गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने अपने बंगले पर भाजपा के करीब 20 विधायकों के साथ बैठक की। इसके बाद वे सभी को साथ लेकर विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा के बंगले पहुंचे। दूसरी तरफ पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव के घर पर मंत्री उमाशंकर गुप्ता, गौरीशंकर शेजवार, अर्चना चिटनीस व विश्वास सारंग ने बैठक की। इसके बाद पांचों मंत्री भी डॉ. शर्मा के बंगले पहुंच गए। सोमवार को सदन स्थगित होने के बाद अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा के कक्ष में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में एक बैठक आयोजित की गई। इस दौरान वरिष्ठ मंत्री गोपाल भार्गव, माया सिंह, डॉ. गौरीशंकर शेजवार, रामपाल सिंह और भूपेंद्र सिंह भी मौजूद रहे।
नरोत्तम मिश्रा के बिना सूना लगेगा सदन : कैलाश विजयवर्गीय
भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं विधायक कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि नरोत्तम मिश्रा के बिना सदन सूना लगेगा। विजयवर्गीय सोमवार को विधानसभा पहुंचे थे। राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करने के बाद उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि यदि नरोत्तम मिश्रा राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा लेते तो मुझे व्यक्तिगत तौर पर अच्छा लगता। मिश्रा के मंत्री पद से इस्तीफे के सवाल पर विजयवर्गीय ने कहा कि यह सरकार का अधिकार है कि वह किसे मंत्री बनाए।
प्रश्नों के लिखित जवाब नरोत्तम मिश्रा ने ही दिए
नरोत्तम मिश्रा को राष्ट्रपति चुनाव में वोट डालने के लिए अयोग्य घोषित किया गया है। लेकिन उन्होंने विधानसभा में अपने विभागों से संबंधित प्रश्नों के लिखित जवाब दिए। मिश्रा ने जलसंसाधन और जनसंपर्क मंत्री के तौर पर विधायकों के प्रश्नों का जवाब दिया है। मिश्रा की गैरमौजूदगी में विधायकों के प्रतिप्रश्न का जवाब कौन मंत्री देगा? यह सोमवार को तय नहीं था। हालांकि सत्र के पहले दिन सदन श्रद्धांजलि के बाद स्थगित हो गई थी।
बंगले पर पहुंच रहीं फाइलें
नरोत्तम मिश्रा केस के सिलसिले में दिल्ली में हैं, लेकिन उनके विभागों की फाइलें बंगले पर पहुंच रही हैं। कोर्ट का फैसला आने के बाद कुछ अफसरों के ट्रांसफर के प्रस्ताव भी अटक गए हैं। सोमवार को सात फाइलें आईं थी। इस दौरान चार ईमली स्थित उनके शासकीय आवास पर केवल स्टाफ मौजूद रहा।
नहीं भेजी कार्यमंत्रणा समिति की बैठक की सूचना
विधानसभा की कार्रवाई का संचालन संबंधी कार्यमंत्रणा समिति की बैठक मंगलवार को सुबह 10:30 बजे अध्यक्ष डा. सीतासरन शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित की गई है। बैठक की सूचना संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा को छोड़कर सभी सदस्यों को भेज दी गई है। बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह सहित 14 सदस्य हैं। ऐसा पहली बार हुआ है जब संसदीय कार्यमंत्री को इस बैठक में नहीं बुलाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *