नवाज ने कहा- दुश्मनी भुलानी चाहिए, सरताज बोले- इंटरनेशनल प्रेशर के चलते आए मोदी

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के फॉरेन एडवाइजर सरताज अजीज ने कहा है कि नरेंद्र मोदी का लाहौर दौरा अचानक नहीं हुआ। इंटरनेशनल प्रेशर के चलते उन्हें पाकिस्तान आना पड़ा। क्योंकि दुनिया चाहती है कि दोनों देशों के बीच बातचीत शुरू हो। वहीं, शरीफ ने कहा कि दोनों देशों के दुश्मनी भुलाकर आगे बढ़ना चाहिए।
शरीफ ने कहा- दोस्ताना रवैया समस्याओं को खत्म कर देगा…
– शरीफ ने बुधवार को कहा है कि अब भारत-पाकिस्तान के रिश्तों को नया मोड़ देने का वक्त आ गया है।
– शरीफ ने कहा, ‘भारतीय प्रधानमंत्री लाहौर आए। हमारे साथ कुछ वक्त बिताया। यह दुश्मनी को भुलाकर नई शुरुआत का वक्त है। भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत फिर शुरू करने पर रजामंदी हुई। बाइलेट्रल टॉक के लिए बातचीत पॉजिटिव तरीके से आगे बढ़ी है।’
– बलूचिस्तान में जर्नलिस्ट के सवाल पर नवाज ने कहा, ‘दोस्ताना रवैया कई बार समस्याओं को खत्म कर देता है।’
अजीज ने क्या कहा सांसदों से…
– अजीज मंगलवार को पाकिस्तानी संसद में सांसदों के सवालों के जवाब दे रहे थे। यह स्पेशल मीटिंग मोदी के दौरे पर चर्चा के लिए बुलाई गई थी।
– अजीज ने कहा, ‘मोदी की इस यात्रा के बहुत ज्यादा मायने न निकाले जाएं। लेकिन यह 2013 में बंद हो चुकी बातचीत को तेजी से आगे बढ़ाने और सभी मुद्दों को हल करने में मददगार साबित होगी।’
– हालांकि, विपक्ष इससे संतुष्ट नहीं हुआ। सीनेट में विपक्ष के नेता ऐतजाज अहसान ने कहा कि पाकिस्तान सरकार की जानकारी अधूरी है।
नवाज की नातिन की शादी अटेंड करने नहीं गए थे मोदी
– अजीज ने कहा, ‘मोदी पीएम शरीफ को बर्थडे की बधाई देने आए थे। उनके दौरे का शरीफ की नातिन मेहरुन्निसा की अगले दिन होने वाली शादी से कोई संबंध नहीं था।’
72 घंटे का वीजा हुआ था जारी
– अजीज ने बताया, ‘मोदी के साथ करीब 100 इंडियन रीप्रजेंटेटिव बिना वीजा के लाहौर हवाई अड्डे पर उतरे थे। हवाई अड्डे पर ही मोदी और उनके पर्सनल स्टाफ के 11 मेंबर्स के लिए 72 घंटे का वीजा जारी किया गया था। इस मामले में पूरे प्रोटोकॉल माना गया।’
– अजीज ने बताया, ‘भारतीय पीएम ने शरीफ को फोन कर पाकिस्तान आकर जन्मदिन की शुभकामनाएं देने की इच्छा जताई थी। शरीफ ने इसे मान लिया और बताया कि वे लाहौर में हैं। इसलिए मोदी लाहौर में उतरे।’
काठमांडू में मीटिंग से इनकार
अजीज ने कहा, ‘मोदी और शरीफ के बीच काठमांडू में कोई सीक्रेट मीटिंग नहीं हुई थी। इंडियन जर्नलिस्ट की लिखी किताब में दी गई सीक्रेट मीटिंग जानकारी में कोई सच्चाई नहीं है।’ बता दें कि नेपाल में दोनों देशों के पीएम की मीटिंग होने की बात की जाती रही है। मीटिंग कारोबारी सज्जन जिंदल ने कराई थी।