नासिक कुंभ शुरू: महिला साधुओं ने मांगा बराबरी का हक, कहा- हमें भी दो अखाड़ा

नासिक: महाराष्ट्र के नासिक में मंगलवार को कुंभ की शुरुआत हो गई। इस मौके पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी पहुंचे। यह आयोजन 25 सितंबर तक चलेगा। इस बीच महिला साधुओं के एक दल ने अपने लिए अलग अखाड़े की मांग की है। साध्वियों ने यह भी मांग की है कि उन्हें शाही स्नान के दौरान डुबकी लगाने के लिए विशेष जगह मुहैया कराई जाए।
साध्वी त्रिकाल भैरवनाथ सरस्वती महाराज ने बताया कि उन्होंने इस मुद्दे पर मंत्रियों से लेकर डीएम तक को चिट्ठी लिखी है। उनके मुताबिक, अलग अखाड़े की मांग पूरी करने का वादा किया गया, लेकिन बाद में किसी ने कुछ नहीं किया। साध्वी ने बताया कि वे साधुओं के किसी भी अखाड़े की हिस्सा नहीं हैं। उन्होंने कहा, ”धार्मिक कार्यक्रमों में महिलाएं बड़ी संख्या में हिस्सा लेती हैं। उन्हें भी बराबर का अधिकार मिलना चाहिए। अगर पुरुष साधुओं को अलग जगह दी गई है तो हमें क्यों नहीं? क्या हमें इसका अधिकार नहीं है?” साध्वी का दावा है कि अगर अलग अखाड़े के लिए मंजूरी मिल जाए तो करीब 15 हजार साध्वी को वे नासिक बुला सकती हैं।
बता दें कि अखाड़े आयोजन स्थल पर अस्थायी टेंट लगाते हैं, जहां साधु लंगर, प्रार्थना और अन्य धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं। एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, साध्वियों ने 10 एकड़ जमीन की डिमांड की है। इसके अलावा, सुरक्षा के लिए 20 पुलिस कॉन्स्टेबल्स मांगे गए हैं। उधर, नासिक के कलेक्टर दीपेंद्र सिंह कुशवाहा ने कहा कि साध्वियों की डिमांड पूरी की जाएगी और उन्हें अलग से जगह मुहैया कराई जाएगी। हालांकि, सोमवार तक सभी 13 अखाड़ों को जगह अलॉट कर दी गई, लेकिन साध्वियों के लिए जगह की डिमांड पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।
कुंभ के लिए विशेष तैयारियां
नासिक में मंगलवार से शुरू हुए कुंभ के लिए खास तौर पर डिजाइन किया गया पुलिस कंट्रोल रूम तैयार किया गया है। अनाउंसमेंट करने के लिए 12 पुलिसवालों (पुरुष व महिलाएं) को ट्रेंड किया गया है। यह एनाउंसमेंट 250 स्पीकर्स के साथ आयोजन स्थल के अहम जगहों पर होगा। इसके अलावा, पूरे शहर में 348 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। इसके अलावा, पुलिस ने 80 एलईडी स्क्रीन्स भी लगाई हैं, जिस पर ट्रैफिक मूवमेंट से लेकर मिसिंग लोगों की फोटोज दिखाई जाएंगी। इसके अलावा, प्राइवेट रेडियो चैनल्स को भी कुंभ से जुड़ी अपडेट्स देने के लिए जोड़ा जा रहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *