निगेटिव कमेंट्स से भी नहीं हिले कोहली, सीरीज से हमें मिलीं ये चीजें

खेल डेस्क. महेंद्र सिंह धोनी के टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद बीसीसीआई के सामने सबसे बड़ा सवाल आया कि टीम का अगला कप्तान कौन होगा? उन्होंने विराट कोहली पर भरोसा जताया, लेकिन कई एक्सपर्ट्स ने उनके एटीट्यूड के कारण उन्हें इस लायक नहीं समझा। शुरुआती मैचों में भी टीम इंडिया के लिए वे कुछ खास नहीं कर सके। इसके बाद क्रिकेट फैन्स भी उनके विरोध में हो गए। श्रीलंका, जहां भारत ने 22 साल से टेस्ट सीरीज नहीं जीती थी, धोनी और गांगुली जैसे सफल कप्तान भी फेल हो चुके थे। ऐसे में कोहली पर फैन्स को बिलकुल भरोसा नहीं था, क्योंकि उनके साथ टीम भी बिल्कुल नई थी। इतनी आलोचना के बावजूद कोहली ने आपा नहीं खोया और आत्मविश्वास बनाए रखा। तीन मैचों की सीरीज में 2-1 से शानदार जीत दर्ज की।
कोहली पर निगेटिव कमेंट्स का नहीं हुआ असर
श्रीलंका दौरे पर जाने से पहले उन्होंने फैन्स से टीम इंडिया को सपोर्ट करने की गुहार लगाई और कहा कि वे जरूर कामयाब होंगे। उनके इस बयान के बाद यही लगा कि हर कप्तान सीरीज से पहले यही कहता है, करके दिखाओ तो जानें। पहले टेस्ट में टीम इंडिया जिस तरह से जीता हुआ मैच हार गई, उसके बाद फैन्स ने पूरी उम्मीद ही खो दी। टीम इंडिया के साथ-साथ कोहली को भी कई निगेटिव कमेंट्स सुनने को मिले। डायरेक्टर रवि शास्त्री ने उनका साथ दिया और उसी एटीट्यूड के साथ खेलने को कहा, जो उन्होंने पहले टेस्ट में अपनाया था। पांच दिनों में नतीजा सबके सामने आ गया और देखते-देखते भारत दूसरे (278 रन से) के बाद तीसरा टेस्ट (117 रन से) भी जीत गया। कोहली ने वो कारनामा कर दिखाया, जो दिग्गज नहीं कर सके थे। ऐतिहासिक जीत के साथ ही इस सीरीज में भारत को विश्वास करने लायक टेस्ट कप्तान मिल गया।
इस सीरीज ने भारत को भरोसेमंद टेस्ट कप्तान तो दिया ही, साथ ही युवा टीम में कुछ और खासियतें भी मिलीं, जो टूर शुरू होने से पहले साफ नहीं थीं। इस सीरीज से टीम इंडिया को ये 6 चीजें मिलीं।