नीतीश सरकार के खिलाफ HC ने अर्जी खारिज की, कहा- हस्तक्षेप नहीं कर सकते

पटना. बिहार में जेडीयू-बीजेपी अलायंस सरकार के गठन के खिलाफ दायर पिटीशन पटना हाईकोर्ट ने सोमवार को खारिज कर दी। कोर्ट ने कहा, “सरकार बहुमत साबित कर चुकी है, इसलिए हम इस मामले में हस्तक्षेप नहीं कर सकते।” ये पिटीशन हाईकोर्ट के वकील दिनेश खुर्पीवाला ने दायर की थी। इसमें कहा गया था कि नीतीश की नई सरकार बनवाने में गवर्नर केसरीनाथ त्रिपाठी ने कॉन्स्टिट्यूशन के निर्देशों का सही तरह से पालन नहीं किया।
JDU-BJP अलायंस ने जीत लिया था फ्लोर टेस्ट…
– इससे पहले 28 जुलाई को JDU-BJP अलायंस ने बिहार विधानसभा में फ्लोर टेस्ट जीत लिया था। NDA को 131 वोट हासिल हुए थे, जबकि RJD-कांग्रेस अलायंस को 108 वोट। BJP-JDU को जीत के लिए 243 विधायकों में से 122 मेंबर्स का सपोर्ट चाहिए था।
26 मंत्रियों ने ली थी शपथ
– बीजेपी के मंगल पांडे को भी शपथ लेना था, लेकिन वे पहुंच नहीं पाए।
– बता दें कि महागंठबधन (आरजेडी-कांग्रेस और जेडीयू) से अलग होने के बाद गुरुवार को नीतीश कुमार ने सीएम पद की छठी बार शपथ ली थी। वहीं, बीजेपी के सुशील कुमार मोदी को नई सरकार में डिप्टी सीएम की जिम्मेदारी दी गई। उन्होंने भी नीतीश के साथ शपथ ली थी।
फ्लोर टेस्ट के बाद नीतीश और तेजस्वी का रिएक्शन
# नीतीश कुमार
1) अंदर-बाहर सबको आईना दिखाऊंगा
– विधानसभा में कहा, “सबको आईना दिखाऊंगा। बाहर भी, अंदर भी। वोट देने वाली जनता परेशानी हो रही थी। सदन की मर्यादा ना भूलें, सचेत रहें। वरना हम सबको हिसाब देंगे और आइना दिखाएंगे विधानसभा के बाहर।”
2) भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं करेंगे
– “कुर्सी राजभोग के लिए नहीं, सेवा करने के लिए होती है। सरकार आगे चलेगी। बिहार की खिदमत करेगी। भ्रष्टाचार और अन्याय को बर्दाश्त नहीं करेंगे।”
3) मुश्किलें झेलकर गठबंधन धर्म का पालन किया
– “हमने कई समस्याओं को झेलते हुए महागठबंधन धर्म का पालन किया। कांग्रेस को 25 सीटें नहीं मिल रही थीं। मैंने 40 सीट तक पहुंचाया। सत्ता सेवा के लिए होती है, मेवा के लिए नहीं। मुझे कोई साम्प्रदायिकता का पाठ नहीं पढ़ा सकता।”
# तेजस्वी यादव
1) नीतीश जी को शर्म नहीं आई
– विधानसभा में स्पीच के दौरान कहा, “4 साल में 4 सरकार… बिहार को इसका जवाब चाहिए। नीतीशजी, आपको सुशील मोदीजी के साथ बैठने में शर्म नहीं आई।”
2) उन्होंने लोगों को छला
– “जिन लोगों ने बीजेपी के विरोध में वोट किया था, नीतीशजी ने उन्हें छला है। वो अपमानित महसूस कर रहे हैं। नीतीशजी बीजेपी की गोद में चले गए। हमने आज इतने सवाल पूछे, जिसका जवाब बीजेपी और नीतीश के पास नहीं था।”
3) बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए नहीं बुलाया
– “4 साल में नीतीश ने 4 सरकारें क्यों बनाईं? बिहार को जो नुकसान हुआ, उसकी भरपाई कौन करेगा? आज जो हाउस में हुआ, हमने गुप्त मतदान की मांग की थी। उनके विधायकों ने कहा था कि गुप्त मतदान होगा तो हम आपको वोट देंगे। संविधान के हिसाब से सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए बुलाया जाता है। लेकिन ऐसा नहीं किया गया।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *