पठानकोट हमले के 1 महीने बाद भी सस्पेंस- एयरबेस में घुसे आतंकी 4 थे या 6?

नई दिल्ली. पिछले महीने पठानकोट एयरबेस पर हमला करने वाले आतंकियों की संख्या कितनी थी, इस बारे में एनआईए भी किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पा रही है। दावा है कि एनएसजी कमांडोज ने कुल छह आतंकियों को मार गिराया था। लेकिन जिन दो आतंकियों को आखिर में ढेर किया गया था, उनकी न तो शिनाख्त हो सकने लायक लाशें मिलीं, न ही कपड़े या सामान। अब डीएनए के जरिए गुत्थी सुलझाने की कोशिश की जा रही है।
क्या डीएनए से मिल सकेंगे सवालों के जवाब…
 – एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, चार आतंकियों को पहले दौर के एनकाउंटर में मार गिराया गया था। इसके बाद, दो मंजिला बिल्डिंग के ग्राउंड फ्लोर पर दो टेररिस्ट को मारे गए थे।
– एनकाउंटर में बिल्डिंग तबाह हो गई। इसके मलबे में किसी आतंकी के कपड़ों के टुकड़े नहीं मिले। सवाल यह उठ रहा है कि आतंकियों के कपड़ों के टुकड़े क्यों नहीं मिले?
– अब एनआईए मलबे और जले हुए सामान की राख की फोरेंसिक जांच करा रही है, ताकि सच्चाई का पता लगाया जा सके।
– डीएनए टेस्ट भी कराया जा रहा है, ताकि आतंकियों के बारे में जानकारी हासिल की जा सके।
एनआईए चीफ फिर जाएंगे पठानकोट?
 – आतंकियों की संख्या के बारे में उठ रहे सवालों के बीच खबर है कि एनआईए चीफ शरद कुमार खुद एक बार फिर पठानकोट एयरबेस का दौरा करेंगे।
– शरद कुमार एक्सपर्ट्स के साथ उन सबूतों की जांच करेंगे जो एयरबेस पर हमले के बाद इकट्ठा किए गए हैं।
– तीन जनवरी को होम सेक्रेटरी राजीव महर्षि और एयर मार्शल अनिल खोसला ने कहा था कि चार आतंकियों के एयरबेस में घुसने के पहले ही दो आतंकी एयरबेस में एंट्री कर चुके थे।
– गुरदासपुर के पूर्व एसपी सलविंदर सिंह ने भी जांच एजेंसियों को आतंकियों की संख्या चार ही बताई थी। सलविंदर को कथित तौर पर आतंकियों ने हमले से पहले किडनैप किया था।
– जांच टीम को अब तक आतंकियों की चार असॉल्ट राइफलें और एक पिस्टल ही मिली है।
– सवाल उठ रहा है कि अगर छह आतंकी थे तो उनके हथियार कहां हैं? एनआईए इन सवालों के ही जवाब खोज रही है।
कब हुआ पठानकोट हमला और इस केस में अब तक क्या हुआ?
 – 2 जनवरी की सुबह 6 पाकिस्तानी आतंकियों ने पठानकोट एयरबेस पर हमला किया। इसमें 7 जवान शहीद हो गए।
– 36 घंटे एनकाउंटर और तीन दिन कॉम्बिंग ऑपरेशन चला।
– हमले का मास्टरमाइंड जैश-ए-मोहम्मद का चीफ मौलाना मसूद अजहर है।
– अजहर को 1999 में कंधार प्लेन हाईजैक केस में पैसेंजरों की रिहाई के बदले छोड़ा गया था।
– भारत ने आतंकियों की उनके हैंडलर्स से बातचीत की कॉल डिटेल्स और उनसे मिले पाकिस्तान में बने सामानों के सबूत पड़ोसी देश को सौंपे हैं।
– पाक मीडिया का दावा है कि मसूद अजहर को हिरासत में लिया जा चुका है। लेकिन पाकिस्तान इससे इनकार कर रहा है।
– इस बीच, भारत-पाक फॉरेन सेक्रेटरी लेवल की 15 जनवरी को जो बातचीत होनी थी, नहीं हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *