पिछले साल 16 करोड़ में बिकने वाले युवी 7 करोड़ में बिके

नई दिल्ली. आईपीएल-9 के लिए 351 प्लेयर्स का ऑक्शन शुरू हो चुका है। 2015 में सबसे महंगे 16 करोड़ में बिकने वाले युवराज सिंह को इस साल हैदराबाद सनराइजर्स ने 7 करोड़ रुपए में खरीदा। शेन वाटसन इस साल के सबसे महंगे हैं। उन्हें RCB ने 9.5 करोड़ में लिया है। इंडियन फास्ट बॉलर इशांत शर्मा को राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स ने 3.8 करोड़ रुप में खरीदा। सबसे पहली बोली केविन पीटरसन की लगी। उन्हें पुणे ने में 3.5 करोड़ रुपए में खरीदा।
कुछ ऐसा रहा प्लेयर्स का ऑक्शन…
प्लेयर टाइप बेस प्राइज (लाख में) सेल प्राइज (लाख में) टीम
केविन पीटरसन बैट्समैन 200 350 राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स
ड्वेन स्मिथ ऑलराउंडर 50 230 गुजरात लायंस
इशांत शर्मा बॉलर 200 380 राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स
शेन वाटसन ऑलराउंडर 200 950 RCB
आशीष नेहरा बॉलर 200 550 सनराइजर्स हैदराबाद
युवराज सिंह ऑलराउंडर 200 700 सनराइजर्स हैदराबाद
डेल स्टेन बॉलर 150 230 गुजरात लायंस
संजू सैमसन विकेटकीवर 200 420 दिल्ली डेयरडेविल्स
जोस बटलर बैट्समैन 100 380 दिल्ली डेयरडेविल्स
दिनेश कार्तिक विकेटकीपर 200 230 गुजरात लायंस
टीम इंडिया में क्यों चुने गए पवन नेगी, क्यों पड़ेगा उनकी नीलामी पर असर…
– नेगी अच्छे ऑलराउंडर हैं। उनका 135 का स्ट्राइक रेट है।
– 56 टी-20 में नेगी ने 46 विकेट और 479 रन बनाए हैं।
– धोनी नेगी को टीम में शामिल किए जाने के फेवर में थे।
– उनका बेस प्राइस 30 लाख रुपए है। लेकिन टी-20 वर्ल्ड कप टीम में उनकी सरप्राइज एंट्री के बाद उनके लिए ज्यादा बोली लग सकती है।
खिलाड़ियों की कैसे लगेगी बोली, किस बेस प्राइस में कितने प्लेयर्स…
– आठ-आठ के सेट में प्लेयर्स की बोली लगेगी।
– पहले सेट में जिन प्लेयर्स की बोली लगेगी, उन्हें मार्की प्लेयर्स नाम दिया गया है।
– बेस प्राइस को सात कैटेगिरी में डिवाइड किया गया है।
– मैक्सिमम बेस प्राइस 2 करोड़ है। इस लिस्ट में 12 खिलाड़ी हैं।
– इसके बाद डेढ़ करोड़, एक करोड़, पचास लाख, तीस लाख, बीस लाख और 10 लाख बेस प्राइस है।
कितने खिलाड़ियों की लगेगी बोली
– 130 कैप्ड (इंटरनेशनल क्रिकेट खेल चुके), 219 अनकैप्ड और दो एसोशिएट्स कंट्रीज के प्लेयर्स सहित कुल 351 प्लेयर्स की बोली लगेगी।
– कैप्ड प्लेयर्स में सबसे ज्यादा 29 ऑस्ट्रेलिया के हैं। इसके अलावा 26 इंडिया, 20 वेस्ट इंडीज, 18 साउथ अफ्रीका, 16 श्रीलंका, 9 न्यूजीलैंड, 7 इंग्लैंड, 5 बांग्लादेश।
– दो प्लेयर एसोशिएट्स कंट्रीज आयरलैंड और कनाडा से हैं।
– 219 अनकैप्ड प्लेयर्स में 204 भारत के, नौ ऑस्ट्रेलिया, तीन वेस्ट इंडीज, 2 साउथ अफ्रीका और 1 न्यूजीलैंड से है।
आईपीएल हिस्ट्री में कब कौन रहा सबसे महंगा
– 2008 में चेन्नई सुपर किंग्स ने महेंद्र सिंह धोनी को 1.5 मिलियन डॉलर में खरीदा था।
– 2009 में केविन पीटरसन और एड्यू फ्लिंटॉफ सबसे महंगे बिके थे।
– पीटरसन को आरसीबी ने और फ्लिंटॉफ को चेन्नई ने 1.55 मिलियन डॉलर में खरीदा था।
– 2010 में किरन पोलार्ड और शेन बॉन्ड की सबसे बड़ी बोली लगी थी।
– पोलार्ड को मुंबई और बॉन्ड को कोलकाता ने 7 लाख, 50 हजार डॉलर में लिया था।
– 2011 में कोलकाता ने गौतम गंभीर की सबसे बड़ी बोली लगाकर 2.4 मिलियन डॉलर में खरीदा।
-2012 के सबसे महंगे खिलाड़ी रवींद्र जडेजा थे। उन्हें चेन्नई ने 2 मिलियन डॉलर में खरीदा।
– 2013 के सबसे महंगे खिलाड़ी ग्लेन मैक्सवेल थे। मुंबई इंडियन्स ने उन्हें 1 मिलियन में खरीदा था।
– 2014 में पहली बार खिलाड़ियों की बोली रुपए में लगी।
– 2014 और 2015 के सबसे महंगे खिलाड़ी युवराज सिंह थे।
– युवी को 2014 में आरसीबी ने 14 करोड़ रुपए और 2015 में दिल्ली ने 16 करोड़ रुपए में खरीदा।
एक फ्रेंचाइजी कितना खर्च कर सकती है…
– दिल्ली डेयरडेविल्स के पर्स में सबसे ज्यादा 37.15 करोड़ रुपए हैं।
– किंग्स इलेवन पंजाब के पास खर्च करने के लिए 23 करोड़ हैं।
– कोलकाता नाइट राइडर्स 17.95 करोड़, मुंबई इंडियन्स 14.4 करोड़, आरसीबी 21.63 करोड़ और हैदराबाद 30.15 करोड़ रुपए खर्च कर सकती है।
– पुणे और गुजरात के पास खर्च करने के लिए 27-27 करोड़ रुपए हैं।