पुरी में 245 किमी प्रति घंटा है हवा की अधिकतम रफ्तार, नौसेना के 13 विमान अलर्ट पर

ओडिशा के तट से शुक्रवार सुबह फोनी चक्रवात टकरा गया है. फोनी की वजह से तेज बारिश हो रही है और हवाएं चल रही हैं. इस समय पुरी और उसके आसपास के इलाकों में हवा की रफ्तार 200 किमी प्रति घंटे से अधिक है. राज्‍य सरकार ने ओडिशा में करीब 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा है. साथ ही अन्‍य लोगों से घरों पर ही रहने की सलाह दी गई है. ओडिशा के 17 जिलों में फोनी तूफान को लेकर अलर्ट जारी किया गया है. साथ ही सभी स्‍कूल कॉलेज भी बंद कर दिए गए हैं.

IMD Hyderabad: Winds in Puri, Odisha are blowing at a maximum speed of 240-245 km per hour and heavy to very heavy rains are continuing over the Odisha coast. After landfall, the impact is likely to reduce and it is likely to move towards West Bengal coast. pic.twitter.com/kqafWJxBD0— ANI (@ANI) May 3, 2019

हैदराबाद स्थित मौसम विभाग के अनुसार पुरी में इस समय हवा की अधिकतम रफ्तार 240 किमी प्रति घंटा से 245 किमी प्रति घंटा के बीच है. साथ ही पूरे ओडिशा तट पर भारी बारिश हो रही है. फोनी के पूरी तरह से टकराने के बाद इसका असर कम होगा और यह पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों की ओर जाएगा. फोनी के गुजरने के बाद राहत और बचाव कार्य के लिए विशाखापत्‍तनम में नौसेना के 13 विमानों को अलर्ट पर रखा गया है.

Andhra Pradesh: Relief operation by NDRF (National Disaster Response Force) is underway in Kotturu Mandal of Srikakulam which received rain and experienced strong winds today. #CycloneFani has made a landfall in Odisha’s Puri. (Pic source: NDRF) pic.twitter.com/gzTZUzWMHT— ANI (@ANI) May 3, 2019

ओडिशा में फोनी चक्रवात के पहुंचने का असर आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों पर भी दिख रहा है. यहां के विशाखापत्तनम में समुद्र तट पर तेज हवाएं चल रही हैं. साथ ही ऊंची समुद्री लहरें भी उठ रही हैं. फोनी तूफान के गुजरने के बाद के हालात से निपटने के लिए भारतीय तटरक्षक बल (कोस्‍ट गार्ड) ने राहत और बचाव की 34 टीमों को तैनात कर दिया है. ये टीमें विजाग, चेन्‍नई, पाराडिप, गोपालपुर, हल्दिया, फ्रेजरगंज और कोलकाता में तैनात की गई हैं. वहीं विजाग और चेन्‍नई में कोस्‍ट गार्ड की चार नावों को भी तैनात किया गया है.

Andhra Pradesh: Strong winds hit Visakhapatnam as #CycloneFani makes landfall in Odisha’s Puri. pic.twitter.com/horXzAifNR— ANI (@ANI) May 3, 2019

भुवनेश्‍वर स्थित भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के डायरेक्‍टर एचआर विश्‍वास के अनुसार के अनुसार फोनी चक्रवात के ओडिशा के तट से टकराने की प्रक्रिया सुबह 8 बजे शुरू हो गई थी. कुछ जमीनी इलाकों में भी इसकी दस्‍तक हुई है. इसके पूरी तरह से यहां टकराने में करीब 2 घंटे और लगेंगे. यह ओडिशा के पुरी के नजदीक टकराया है. इसके टकराने की प्रक्रिया करीब 10:30 बजे तक जारी रहेगी.

सुबह बताया गया था कि चक्रवात फोनी ओडिशा के तट से शुक्रवार सुबह टकरा सकता है. मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार सुबह 5:30 बजे फोनी पुरी से 80 और गोपालपुर से 65 किलोमीटर दूर था. औसतन 40 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से फोनी एक कर्व लेता हुआ कोस्टल एरिया की तरफ घूम रहा था.

फोनी रात तक ओडिशा के तटीय इलाकों में कहर बरपाएगा. फिर पश्चिम बंगाल की ओर चला जाएगा. पूरे ओडिशा कोस्टल एरिया में रात करीब 2 बजे से भारी बरसात हो रही है. तेज हवाएं चल रही हैं. फोनी के मद्देनजर राष्‍ट्रीय आपदा राहत दल (एनडीआरएफ) की 3 अतिरिक्‍त टीमों को तैनात किया गया है. ये टीमें भुवनेश्‍वर नगर पालिका के आयुक्‍त को रिपोर्ट करेंगी. ओडिशा में एनडीआरएफ की कुल 18 टीमें तैनात की गई हैं. इसके अतिरिक्‍त 10 टीमें और तैनात की गई हैं.

#WATCH Odisha: Strong winds and rainfall hit Puri. #CycloneFani is expected to make a landfall in Puri district today. Visuals from near Puri Beach. pic.twitter.com/Wc9i851CNY— ANI (@ANI) May 3, 2019

राज्‍य के मुख्य सचिव एपी पधी ने कहा कि चक्रवात के टकराने की पूरी प्रक्रिया चार-पांच घंटे की होगी. मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने लोगों से अपील की है कि वे इस दौरान घरों के अंदर ही रहें और कहा कि लोगों की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी इंतजाम किए गए हैं.

इस बीच, नई दिल्ली मिली जानकारी के मुताबिक, भारतीय तटरक्ष बल और नौसेना ने भी राहत इंतजाम में अपने पोत और कर्मियों को तैनात किया है. तट रक्षक बल ने ट्वीट कर कहा कि चक्रवाती तूफान फोनी को देखते हुए 34 राहत दलों और चार तटरक्षक पोतों को राहत कार्य के लिए तैनात किया गया है.

नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन डीके शर्मा ने दिल्ली में कहा कि भारतीय नौसेना के पोत सहयाद्री, रणवीर और कदमत को राहत सामग्री तथा चिकित्सा दलों के साथ तैनात किया गया है, जिससे वे चक्रवात के तटीय इलाके से गुजरने के फौरन बाद राहत कार्य शुरू कर सकें. नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने जानकारी दी कि गुरुवार मध्य रात्रि से भुवनेश्वर से उड़ानों का परिचालन अस्थायी रूप से रोक दिया जाएगा.

शुक्रवार सुबह से कोलकाता हवाई अड्डे से भी उड़ानों का परिचालन अस्थायी रूप से रोक दिया जाएगा और हालात बेहतर होते ही उड़ानों को बहाल कर दिया जाएगा. रेलवे ने ओडिशा से रेलगाड़ियों का परिचालन पहले ही अस्थायी रूप से रोक दिया है.

कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा की अध्यक्षता में एनसीएमी की बैठक के बाद गृह मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि ओडिशा सरकार ने राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) को गुरुवार को जानकारी दी कि 10,000 गांव और 52 शहर एवं कस्बे इस तूफान से प्रभावित होंगे. ओडिशा सरकार द्वारा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने का कार्य पहले से ही किया जा रहा है. सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाए जा रहे लोगों के रहने के लिए लगभग 900 तूफान आश्रय स्थल पहले ही तैयार कर लिए गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *