पुलवामा के बाद जो मोदी सरकार ने किया है, मनमोहन सरकार मुंबई हमले के समय ही कर सकती थी: सुषमा स्‍वराज


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश का सम्मान बढ़ा है. आज वो विश्व का एजेंडा तय कर रहे हैं. 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित करने की पीएम मंशा सिर्फ जाहिर किया था. 192 से 177 देश प्रस्तावक बने और यह निर्विरोध पारित हुआ था. विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने राजस्‍थान में रैली के दौरान ये बातें कहीं.

सुषमा स्‍वराज ने कहा, सऊदी अरब ने योग पर पाबंदी लगा रखी थी, मगर अलग रास्ता निकालकर योग को स्पोर्ट्स में शामिल कर दिया. विदेश में फंसे भारत के नागरिकों की मदद का मुद्दा उठाते हुए उन्‍होंने कहा, ट्विटर पर लिख भर देने से 24 घंटे में फंसे लोगों को बाहर निकाला गया. पांच साल में 2 लाख 26 हजार फंसे लोगों को बाहर निकाला है. फंसे लोगों को बाहर निकालने समय हम मजहब नहीं देखते, उसकी जाति नहीं देखते, सिर्फ देखते हैं कि उसकी राष्‍ट्रीयता क्‍या है.

उन्‍होंने लोगों से अपील करते हुए कहा, इस बार 6 मई को वोट डालते समय आपलोग केंद्र में सरकार बनाने के लिए देश की सुरक्षा का ख्‍याल रखें. इसके लिए आप देख सकते हैं कि वैश्‍विक स्‍तर पर देश की क्‍या स्‍थिति है. अर्थव्‍यवस्‍था की क्‍या हालत है और राष्‍ट्रीय विकास की क्‍या पोजिशन है.

सुषमा स्‍वराज ने कहा, मुंबई में आतंकी हमला हुआ था. 15 देशों के 40 लोग मारे गए थे. सरकार चाहती तो पूरी दुनिया को साथ लेकर चल सकती थी. दूसरी ओर, मोदी सरकार ने पुलवामा हमले से पहले सर्जिकल स्‍ट्राइक और हमले के बाद एयर स्‍ट्राइक के जरिए आतंकवाद को करारा जवाब दिया था.

सुषमा स्‍वराज बोलीं- 1969 में भारत ओआईसी में अपमानित हुआ था, लेकिन मोदी के नेतृत्‍व में किसी देश के लिए भारत को इग्‍नोर करना आसान नहीं है. यह मोदी का भारत है. 1 मार्च को ओआईसी का सम्मेलन हुआ. संस्‍थापक देश पाक ने विरोध किया, लेकिन वह बेअसर रहा. पहली बार आईओसी में भारत ने शिरकत की और आतंकवाद को वैश्‍विक मुद्दा बनाने में जबर्दस्‍त सफलता मिली. 1 मई को जेश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया गया. इस तरह एक बार फिर पाकिस्‍तान अलग-थलग हो गया.

विदेश मंत्री ने कहा, अगर राष्‍ट्र सुरक्षित है तो केवल नरेंद्र मोदी के हाथों में सुरक्षित है. देश की अर्थव्यवस्था का बखान करते हुए स्‍वराज ने कहा, पहले देश की अर्थव्यवस्था चरमराती हालत में थी. आज पांच साल में ही भारत विश्व की 6ठी सबसे बडी अर्थव्यवस्था बन गई है. पांच साल में 10 करोड़ शौचालय बने हैं, 2014 से पहले कुल 12 करोड़ गैस कनेक्‍शन थे, अब पांच साल में 13 करोड़ अतिरिक्‍त गैस कनेक्शन दिए गए. 6 करोड़ महिलाओं को मुफ्त में गैस कनेक्‍शन दिए गए हैं. 34 करोड़ नए बैंक खाते जनधन के तहत खुले. पहले राजमार्ग केवल 12 किलोमीटर प्रतिदिन बनता था, अब 29 किलोमीटर सड़क प्रतिदिन बन रही है. 77 पासपोर्ट केंद्र की जगह अब देशभर में 577 पासपोर्ट केंद्र खोले गए हैं. अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार से पहले देश भर में 1 एम्स था, अटल जी ने 6 एम्‍स बनवाए. अब मोदी सरकार में 5 साल में 14 एम्स बने हैं. उन्‍होंने कहा, मोदी की सरकार है तभी यह सब मुमकिन हो पाया है.