पुलिस की कर्त्तव्यनिष्ठा को सलाम

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वे मध्यप्रदेश पुलिस और उनके परिजनों की कर्त्तव्यनिष्ठा और समर्पण को सेल्यूट करते हैं। प्रदेश की पुलिस ने विपरीत परिस्थितियों में धैर्य, संयम और साहस के साथ विभिन्न चुनौतियों का उत्कृष्ट कर्त्तव्यनिष्ठा के साथ सामना किया है।

श्री चौहान आज यहाँ समन्वय भवन में पत्रिका जज्बा पुलिस अवार्ड 2015 कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने विभिन्न श्रेणी में 12 पुलिसकर्मी को पुरस्कृत किया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की पुलिस ने राज्य को डकैतों के आतंक से मुक्त किया है। नक्सली समस्या को नियंत्रित किया है। सिमी के नेटवर्क को ध्वस्त करने के साथ ही प्रदेश के साम्प्रदायिक सदभाव को बनाये रखने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

उन्होंने कहा कि कई बार पुलिस के योगदान का उचित मूल्यांकन नहीं हो पाता है। पुलिस बल की कमी, अस्वास्थ्यकर और विपरीत परिस्थितियों में भी पुलिस मुस्तैदी के साथ अपने कर्त्तव्यों को अंजाम देती है। पत्रिका समाचार-पत्र समूह ने कर्त्तव्यनिष्ठा की कसौटी पर खरे उतरने वालों को सामने लाने की सराहनीय पहल की है। इसके लिये समूह बधाई का पात्र है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार पुलिस बल की समस्याओं और जरूरतों को समझती है। उन्होंने वर्षा ऋतु में जहाँगीराबाद के पुलिस आवासों के निरीक्षण प्रसंग का स्मरण करते हुए कहा कि नये पुलिस आवासों का निर्माण किया जा रहा है। विगत पाँच वर्ष में पुलिस में 26 हजार पद पर भर्ती की गयी है। इस वर्ष भी पाँच हजार पद पर भर्ती की जायेगी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश कानून एवं व्यवस्था के क्षेत्र में देश का अव्वल राज्य होगा। राज्य की पुलिस कर्त्तव्यनिष्ठा के ऐसे उदाहरण प्रस्तुत करेगी जिन पर देश-दुनिया में चर्चा होगी।

इस अवसर पर पत्रिका समूह के उप संपादक श्री भुवनेश जैन ने स्वागत उदबोधन दिया। कार्यक्रम में बताया गया कि पत्रिका समूह द्वारा पुलिस अधिकारियों को वर्ष 2013 से निरंतर पुरस्कृत किया जा रहा है। यह पुरस्कार साहस,अनुशासन, अन्वेषण और ट्रेफिक प्रबंधन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वालों को तीन श्रेणी में दिए जाते हैं। कार्यक्रम में अन्वेषण के लिये प्रथम पुरस्कार श्री नागेन्द्र पटेरिया, द्वितीय पुरस्कार श्री रामनारायण शर्मा और तृतीय पुरस्कार सुश्री शिल्पा शर्मा को प्रदान किया गया। इसी प्रकार ट्रैफिक प्रबंधन के लिये प्रथम श्री महावीर दुबे, द्वितीय श्री शशिकांत शर्मा, तृतीय श्री बसंत नगेले, अनुशासन के लिये प्रथम सुश्री अरूणा सिंह, द्वितीय श्री संदीप त्रिपाठी, तृतीय सुश्री हेमलता कुशवाह और साहस के लिये प्रथम श्री योगेन्द्र सिंह परमार, द्वितीय श्री देवीराम और तृतीय पुरस्कार संयुक्त रूप से श्री अर्जुन मिश्रा और श्री महेश सोनी को प्रदान किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री को पंजाब नेशनल बेंक की ओर से पुलिस फण्ड के लिये रुपये 21 हजार की सहयोग राशि का चेक भेंट किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *