पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पंडित मदन मोहन मालवीय को ‘भारत रत्‍न’

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और स्‍वतंत्रता सेनानी पंडित मदन मोहन मालवीय को देश के सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान ‘भारत रत्‍न’ से सम्‍मानित किया जाएगा। राष्‍ट्रपति भवन की आज सुबह जारी विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गयी है।

श्री वाजपेयी का 90वां जन्‍मदिन कल सुशासन दिवस के रूप में मनाया जायेगा। भारतीय राजनेता अटल बिहारी वाजपेयी पहले वर्ष 1996 में तेरह दिन के लिए भारत के प्रधानमंत्री बने थे। उसके बाद वर्ष 1998 में 2004 तक वे प्रधानमंत्री पद पर आसीन रहे। श्री वाजपेयी लोकसभा के लिए नो बार और राज्‍यसभा के लिए दो बार चुने गए थे। उन्‍होंने लखनऊ में उत्‍तर प्रदेश के लिए संसद सदस्‍य के रूप में भी वर्ष 2009 तक कार्य करते हुए स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी कारणों से सक्रिय राजनीति से संन्‍यास ले लिया पंडित मदन मोहन मालवीय जाने-माने शिक्षाविद और राजनीतिक थे जिन्‍होंने स्‍वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका निभायी। वे 1909 और 1918 में भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस के अध्‍यक्ष रहे। वे बनारस हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय के संस्‍थापक थे। पंडित मदन मोहन मालवीय को यह सम्‍मान मरणोपरान्‍त दिया गया है। पंडित मदन मोहन मालवीय के पोते जस्‍टिस गिरधर मालवीय ने कहा कि महामना मालवीय जी को भारत रत्‍न देना पूरे भारत का सम्‍मान है।