पेट्रोल डकारने का खेल

 इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आइओसी) में एक अनोखा घपला पकड़ा गया है। टैंकरों में जुगाड़ कर प्रत्येक फेरे में डेढ़ सौ से ढाई सौ लीटर पेट्रोल-डीजल टैंकर मालिक डकारते रहे। ऐसे चालीस टैंकरों को आइओसी ने काली सूची में डाल दिया है।

सूत्रों के मुताबिक, आइओसी से हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर सहित सेना की सप्लाई होती है। एक टैंकर में नौ हजार से 12 हजार लीटर तक पेट्रोल-डीजल भर जाता है। तेल निकलने के लिए एक चाभी आइओसी में तो दूसरी पेट्रोल पंप या जहां की सप्लाई होती, वहां होती है। एक-एक टैंकर लोड होने के बाद गेज से मापा जाता है कि उसमें कितना तेल लोड हुआ है। टैंकर खाली किए जाने से पहले पंप मालिक तेल की पैमाइश कराता है। दोनों जगह सबकुछ सही पाए जाने के बाद टैंकर मालिक को वाहन का भाड़ा दिया जाता है।

पता चला है कि टैंकर मालिक एक फेरे में करीब दो सौ लीटर तेल का घपला कर रहे थे। ये 12 की जगह 14 हजार तेल लोड करवाते थे। दरअसल, वे टैंकर में अलग-अलग जुगाड़ करवाते थे। एक जुगाड़ रॉड काटकर किया जाता, जबकि दूसरा प्रेशर पाइप की उल्टी चूड़ी से। दोनों तरीके में टैंकर में ऐसे स्थान पर तेल चला जाता, जिसकी पैमाइश नहीं हो पाती थी। भनक लगने पर आइओसी के अफसरों ने टैंकरों को चेक किया तो एक के बाद एक घपला पकड़ा गया।

आइओसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ब्लैक लिस्ट किए गए सभी 40 टैंकर देश में किसी भी तेल कंपनी का टेंडर नहीं भर सकेंगे। इन टैंकरों के चेसिस, इंजन नंबर और रजिस्ट्रेशन नंबर का ब्योरा सभी जगह भेज दिया जाता है।