पेट्रोल ने फिर रुलाया, कारें हुईं सस्ती

tatpar 15 july 2013

नई दिल्ली।। पेट्रोल के रेट बार-बार बढ़ने से आप परेशान तो जरूर हो रहे होंगे, लेकिन इससे कार कंपनियां भी कम परेशान नहीं हैं। ये कंपनियां पूरी कोशिश कर रही हैं कि रेट बढ़ने से उनके नए कस्टमर्स की संख्या में कमी न आए। इसलिए ये कंपनियां अपनी कारों के दाम घटा कर ज्यादा से ज्यादा लोगों को रिझाने की पूरी कोशिश कर रही हैं।

कार कंपनियों की इस बेचैनी को इन दिनों उनकी ओर से ऑफर्स की लाइन लगा देने के फैसलों में आसानी से देखा जा सकता है। इनपुट कॉस्ट के कारण लगभग सभी कंपनियों ने अपनी कारों की कीमतें बढ़ाई हैं, इसके बावजूद कस्टमर फायदे में हैं क्योंकि ऑफर्स के कारण उन्हें कार सस्ती पड़ रही है। पिछले आठ महीनों से कारों की बिक्री घटने से हो रहे नुकसान की भरपाई के लिए कंपनियां यह फायदा दे रही हैं।

सेल घटने से कार कंपनियां काफी परेशान हैं और ऊपर से कल फिर तेल कंपनियों ने 6 हफ्तों में लगातार चौथी बार पेट्रोल के रेट बढ़ा दिए। वैसे तो बढ़ोतरी 1.55 रुपये की हुई है, लेकिन इसमें वैट और लोकल टैक्स मिला लिया जाए तो दिल्ली में पेट्रोल 1.86 रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया है। यहां अब एक लीटर पेट्रोल 68.58 रुपये के बजाय 70.44 रुपये में मिलेगा।

इन हालात में अपनी सेल बढ़ाने के लिए कई कंपनियों ने ऑफर्स की भी लाइन लगा दी है। स्विफ्ट और डिजायर जैसी कारों पर लंबे वेटिंग पीरियड खत्म हो चुके हैं बल्कि ऑफर्स भी मिल रहे हैं। हॉट केक की तरह बिकने वाली डीजल कारों पर भी अच्छे डिस्काउंट देखे जा रहे हैं। एक डीलर का कहना था कि जितना डिस्काउंट कंपनी के एड में दिखता है, कस्टमर उससे ज्यादा डीलर से निकलवा रहा है।

पिछले कुछ वक्त में लॉन्च हुईं कारों पर नजर डालें तो कंपनियों ने सेफ गेम खेलते हुए इन्हें मार्केट के अनुमानित रेट से 50 हजार से 1 लाख रुपये तक सस्ते में बाजार में उतारा। शैवरले की एमपीवी एंजॉय (5.49 लाख रुपये), होंडा की सेडान अमेज (4.99 लाख रुपये) और फोर्ड की इको स्पोर्ट्स (5.69 लाख रुपये) में लॉन्च की गईं।